नई दिल्ली: भारतीय रिजर्व बैंक अगली मौद्रिक समीक्षा बैठक में नीतिगत दरों के मोर्चे पर यथास्थिति कायमरख सकता है. मॉर्गन स्टेनली की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि इसके अलावा केंद्रीय बैंक अपने तटस्थ रुख पर भी बना रहेगा. वैश्विक वित्तिय सेवा क्षेत्र की कंपनी का मानना है कि भारत की वृध्दि दर हालांकि बढ़ रही है, लेकिन सुधार अभी शुरुआती चरण में है. ऐसे में तटस्थ रुख कायम रखने की जरूरत है.Also Read - रिजर्व बैंक ने SBI पर एक करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया, जानें वजह

Also Read - Bank Holidays In December: दिसंबर में आधे महीने तक बैंकों में नहीं होगा कामकाज, जानें- कब-कब पड़ रही हैं छुट्टियां

मॉर्गन स्टेनली के शोध नोट में कहा गया है कि वृध्दि तथा मुद्रास्फीति के रुख को देखकर ऐसा अनुमान है कि मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) अपना तटस्थ रुख कायम रखेगी. केंद्रीय बैंक की अगली द्विमासिक मौद्रिक समीक्षा पांच अप्रैल को होनी है. फरवरी की बैठक में एमपीसी ने नीतिगत दरों में बदलाव नहीं किया था. Also Read - Bank Customers Alert! RBI ने इस बैंक पर लगाई कई पाबंदियां, 10 हजार से ज्यादा रुपये नहीं निकाल सकेंगे ग्राहक

बैंकों में लगातार पांच दिन नहीं रहेगी छुट्टी, सोशल मीडिया पर आ रही खबर गलत

बैंकों में लगातार पांच दिन नहीं रहेगी छुट्टी, सोशल मीडिया पर आ रही खबर गलत

जनवरी-फरवरी में उपभोक्ता मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति औसतन 4.8 प्रतिशत रही थी. यह रिजर्व बैंक के मार्च तिमाही के 5.1 प्रतिशत के अनुमान से कुछ कम है. रिपोर्ट में कहा गया है कि वृध्दि के मोर्चे पर दिसंबर 2017 के सकल घरेलू उत्पाद, जीडीपी, के आंकड़ों से पता चलता है कि अर्थव्यवस्था सुधार के रास्ते पर है. नोटबंदी और माल एंव सेवा कर, जीएसटी, के क्रियान्वयन से पैदा हुई दिक्कतें अब दूर होने लगी हैं. (भाषा- इनपुट)