भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के गवर्नर रघुराम राजन ने शुक्रवार को कहा कि टिकाऊ विकास के लिए सुधार जरूरी है, वहीं महंगाई दर वर्तमान के साथ-साथ भविष्य में भी कम रखना होगा। उन्होंने यहां एक कार्यक्रम में कहा कि टिकाऊ विकास के लिए महंगाई दर कम रखते हुए सुधार को कार्यान्वित करना जरूरी है।Also Read - RBI Guidelines: पैसे किसी गलत अकाउंट में ट्रांसफर कर दिए, टेंशन मत लीजिए, ऐसे मिल जाएंगे वापस

उम्मीद की जा रही है कि आरबीआई आगामी मौद्रिक नीति समीक्षा बैठक में नीतिगत दर में कटौती कर सकता है। Also Read - Sovereign Gold Bond Scheme: सस्ते में सोना खरीदने का शानदार मौका, जानिए- कब और कैसे कर सकते हैं निवेश?

अमेरिका के फेडरल रिजर्व द्वारा ब्याज दर को जस-का-तस रखने के फैसले के बाद आरबीआई द्वारा कटौती करने की संभावना और बढ़ी है। Also Read - RBI ने Paytm Payments Bank पर लगाया 1 करोड़ रुपये का जुर्माना, जानें वजह...

फेड के फैसले के बाद में राजन ने कहा कि फेड के फैसले का संबंध अमेरिकी अर्थव्यवस्था से संबंधित चिंता से हो सकता है।

उन्होंने कहा कि फेड को संभवत: दर वृद्धि करने से पहले कुछ और सूचनाओं का इंतजार है।

राजन ने कहा कि बैंकों को जल्द-से-जल्द अपनी वित्तीय स्थिति ठीक कर लेनी चाहिए। उन्होंने कहा कि दिवालिया संहिता बनाने की जरूरत है, जो बैंकों को अपने ऋण खाते को सही रखने को बाध्य करेगा।