गुवाहाटी: केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने शुक्रवार को  कहा कि देश में 2017- 18 में आयकर संग्रह 10.03 लाख करोड़ रुपए के रिकार्ड स्तर पर रहा. इस दौरान 1.31 करोड़ अधिक रिटर्न भरे गये. सबसे खास बात ये हैं कि 2018-19 के लिए 8,357 करोड़ रुपए का लक्ष्य रखा गया है. यह पिछले वित्त साल के मुकाबले 17.75 प्रतिशत अधिक है. Also Read - साउथम्पटन टेस्ट में शतक ना बना पाने से निराश हैं विंडीज बल्लेबाज जर्मेन ब्लैकवुड

पूर्वी क्षेत्र के आयकर प्रशासकों के दो दिवसीय सम्मेलन को संबोधित करते हुए सीबीडीटी की सदस्य शबरी भटसाली ने कहा कि 2017-18 में 6.92 करोड़ आईटी रिटर्न भरे गए, जो इससे पूर्व वित्त वर्ष की तुलना में 1.31 करोड़ अधिक है. इससे पहले वित्त वर्ष 2016-17 में 5.61 करोड़ रिटर्न भरे गए थे. Also Read - WBBSE Board Result 2020 Date: पश्चिम बंगाल बोर्ड कल जारी करेगा माध्यमिक का रिजल्ट, 12वीं का रिजल्ट इस दिन होगा जारी, जानें डिटेल

सीबीडीटी की सदस्य भटसाली ने कहा कि आयकर विभाग से 2017-18 के दौरान 1.06 करोड़ नए करदाता जुड़े और चालू वित्त वर्ष में 1.25 करोड़ नए करदाता जोड़ने का लक्ष्य है. पूर्वोत्तर क्षेत्र में यह संख्या 1.89 लाख थी. Also Read - विकास दुबे एनकाउंटर: स्थिति रिपोर्ट पेश करेगी यूपी सरकार, 20 जुलाई को सुप्रीम कोर्ट करेगा सुनवाई

आयकर विभाग के प्रधान मुख्य आयुक्त (पूर्वोत्तर क्षेत्र) एल सी जोशी राणे ने कहा कि 2017-18 के दौरान क्षेत्र से 7,097 करोड़ रुपए का कर वसूला गया. उन्होंने कहा कि यह पिछले वित्त वर्ष में संग्रह किये गये 6,082 करोड़ रुपए के मुकाबले 16.7 प्रतिशत अधिक है.

राणे ने कहा कि 2018-19 के लिए क्षेत्र के लिए 8,357 करोड़ रुपए का लक्ष्य रखा गया है. यह पिछले वित्त वर्ष के मुकाबले 17.75 प्रतिशत अधिक है. उन्होंने कहा कि कर विभाग लक्ष्य के अनुसार कर संग्रह हासिल करने, करदाताओं का आधार बढ़ाने और बेहतर सेवाएं देने को लेकर प्रतिबद्ध है. पूर्वोत्तर क्षेत्र में 29 केंद्रों में 22 में आयकर सेवा केंद्र खोले जा चुके हैं.