Reliance Industries: रिलायंस इंडस्ट्रीज (Reliance Industries Ltd) ने अपने तेल और रसायन कारोबार के लिए अब अलग यूनिट बना दी है. कंपनी ने बयान जारी करते हुए कहा है कि इससे रणनीतिक साझेदारों के साथ वृद्धि के अवसरों का लाभ उठाने में मदद मिलेगी. कंपनी ने तेल और रसायन यूनिट में रिफाइनिंग संयंत्र, पेट्रोरसायन यनिट्स और खुदरा ईंधन विपणन कारोबार शामिल किया है.Also Read - India's 10 Richest: देश के दस सबसे अमीरों के पास इतना पैसा, रोज 7.43 करोड़ खर्च करें तब भी लगेंगे 84 साल

इस नई इकाई में केजी-डी6 जैसे तेल व गैस उत्पादक क्षेत्र तथा कपड़ा व्यवसाय शामिल नहीं है. रिलायंस इंडस्ट्रीज (Reliance Industries) ने दिसंबर तिमाही के नतीजों में तेल और रसायन (Petro and chemical) कारोबार की एकीकृत कमाई की जानकारी दी. इससे पहले रिफाइनिंग व पेट्रोरसायन (Refining and petrol chemical) व्यवसाय की कमाई का ब्योरा अलग-अलग दिया जाता था, जबकि खुदरा ईंधन विपणन व्यवसाय (Marketing) के परिणाम कंपनी के खुदरा कारोबार के तहत जारी किये जाते थे. Also Read - IMC 2021: 5G रोलआउट देश की पहली प्राथमिकता होनी चाहिए- मुकेश अंबानी

दिसंबर तिमाही के परिणाम में कंपनी ने रिफाइनिंग और पेट्रोरसायन के साथ-साथ खुदरा ईंधन विपणन कारोबार का परिणाम एक इकाई के तौर पर पेश किया. इसका परिणाम हुआ कि कंपनी ने रिफाइनिंग से आय की जानकारी नहीं दी, जो कंपनी के तेल रिफाइनिंग व्यवसाय के प्रदर्शन का आकलन करने के लिये सबसे महत्वपूर्ण आंकड़ा हुआ करता था. आरआईएल ने दिसंबर तिमाही के नतीजे जारी करने के बाद निवेशकों के समक्ष एक प्रस्तुति में कहा, ”रिफाइनिंग तथा पेट्रोरसायन कारोबार को तेल और रसायन इकाई के रूप में पुनर्गठित करने से नयी रणनीति के साथ ही प्रबंधन के नये रुख का पता चलता है.” कंपनी ने कहा कि यह समग्र व तेजी से निर्णय लेने की सुविधा देगा और इसके साथ-साथ रणनीतिक साझेदारी के साथ वृद्धि के आकर्षक अवसरों का लाभ उठाने की सहूलियत भी प्रदान करेगा. Also Read - भारत को प्राथमिकता के आधार पर लागू करना चाहिए 5जी: मुकेश अंबानी

रिलायंस इंडस्ट्रीज ने सऊदी अरामको जैसी कंपनियों को हिस्सेदारी की संभावित बिक्री के लिये तेल और रसायन व्यवसाय को अलग इकाई बनाने का काम पिछले साल शुरू किया था. कंपनी के तेल और रसायन व्यवसाय का मूल्यांकन 75 अरब डॉलर किया गया था. कंपनी की सऊदी अरब ऑयल कंपनी (अरामको) के साथ 20 प्रतिशत हिस्सेदारी की बिक्री के लिये बातचीत हुई थी. हालांकि, कंपनी ने अरामको के साथ चल रही बातचीत के बारे में जानकारी नहीं दी है.

रिलायंस इंडस्ट्रीज ने शुक्रवार को दिसंबर तिमाही के वित्तीय नतीजों का एलान किया था. उसने शेयर बाजार बंद होने के बाद नतीजों का एलान किया था. सोमवार को आरआईएल के शेयर में बड़ी गिरावट देखने को मिली. दिन में 11.40 बजे शेयर का भाव 4.45 फीसदी गिरकर 1,958 रुपये था.