नई दिल्लीः केन्द्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने 3695 करोड़ रुपए के बैंक कर्ज में कथित हेराफेरी के संबंध में रोटोमैक पेन प्रमोटर विक्रम कोठारी और उनके परिवार के खिलाफ मामला दर्ज किया है. अधिकारियों ने सोमवार को जानकारी दी.पहले इसे करीब 800 करोड़ रुपये का घोटाला बताया गया था. अधिकारियों ने कहा कि बैंक ऑफ बड़ौदा की तरफ से दी गई शिकायत पर कानपुर स्थित रोटोमैक ग्लोबल प्राइवेट लिमिटेड, इसके निदेशक विक्रम कोठारी, उनकी पत्नी साधना कोठारी और बेटे राहुल कोठारी और बैंक के अज्ञात अधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया. Also Read - PNB Scam: ब्रिटेन की अदालत ने Nirav Modi के भारत प्रत्यर्पण की दी इजाजत, कहा- दोषी साबित होने लायक हैं सबूत

Also Read - PNB Scam: भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी की रिमांड 7 जनवरी तक बढ़ाई गई

उन्होंने कहा कि जांच एजेंसी ने कानपुर में कोठारी के घर और दफ्तरों सहित तीन स्थानों पर छापेमारी की. सीबीआई प्रवक्ता अभिषेक दयाल ने स्पष्ट रूप से कहा कि इस मामले में अब तक कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है. उन्होंने कहा कि छापेमारी कर रही सीबीआई कोठारी, उनकी पत्नी और बेटे से पूछताछ कर रही है. अधिकारियों ने कहा कि प्रवर्तन निदेशालय ने भी कोठारी और उनके परिजनों के खिलाफ धन शोधन का मामला दर्ज किया है. यह मामला 3695 करोड़ रुपये की कथित बैंक कर्ज धेाखाधड़ी से संबंधित है. सीबीआई द्वारा रविवार को दर्ज की गई एफआईआर के अध्ययन के बाद धन शोधन रोकथाम कानून के तहत मामला दर्ज किया गया है. Also Read - PNB Scam: ब्रिटेन की अदालत ने भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी की हिरासत अवधि 29 दिसंबर तक बढ़ाई

यह भी पढ़ेंः बिल गेट्स ने कहा- सरकार को उनके जैसे अमीर लोगों से अधिक कर वसूलना चाहिए

पंजाब नेशनल बैंक में हुई 11,400 करोड़ रुपये की सनसनीखेज धोखाधड़ी के मामले के सामने आने के बाद बड़े पैमाने पर बैंकिंग धोखाधड़ी का यह दूसरा मामला है. वहीं वित्त मंत्रालय के अधीन आने वाला प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने भी कंपनी के प्रवर्तकों के खिलाफ मामला दर्ज किया है. ईडी ने भी 3,695 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी मामले में विक्रम कोठारी, उनके परिवार के सदस्य के खिलाफ मामला दर्ज किया है. जांच एजेंसी ने सीबीआई की प्राथमिकी देखने के बाद मामला मनी लांड्रिंग निरोधक कानून (पीएमएलए) के तहत दर्ज किया है. पंजाब नेशनल बेंक में 11,400 करोड़ रुपये के कर्जों की धोखाधड़ी के बाद यह दूसरा वित्तीय घोटाला है.