मुंबई। देशभर में एटीएम को 100 रुपये के नये नोट के अनुरूप बनाने में भी बड़ा खर्च आएगा. इसके लिए 100 करोड़ रुपये खर्च करने की जरूरत होगी. एटीएम परिचालन उद्योग ने आज यह कहा. देशभर में करीब 2.40 लाख एटीएम मशीनें हैं. एटीएम परिचालकों के संगठन सीएटीएमआई ने कहा कि 100 रुपये के नये नोट से कई चुनौतियां सामने आएंगी. उन्होंने कहा कि 200 रुपये के नये नोट के लिए एटीएम मशीनों को अनुकूल बनाने का काम अभी पूरा भी नहीं हो पाया है. Also Read - Coronavirus: EMI भुगतान के SMS से कर्जदारों में तीन महीने की मोहलत को लेकर भ्रम

देशभर में 2.4 लाख एटीएम  Also Read - कोरोना का कहर, सरकार और RBI के प्रोत्साहन के बावजूद झेलनी पड़ी आर्थिक गिरावट

सीएटीएमआई के निदेशक और एफएसएस के अध्यक्ष वी . बालासुब्रमण्यम ने कहा कि हमें एटीएम मशीनों को 100 रुपये के नये नोटों के अनुकूल बनाना होगा. देश भर में हमें 2.4 लाख एटीएम मशीनों को इनके अनुकूल बनाना होगा. उन्होंने कहा कि 100 रुपये के पुराने और नये दोनों तरह के नोटों का एक साथ प्रचलन में रहना कई चुनौतियों को जन्म देगा. हितैची पेमेंट सर्विसेज के प्रबंध निदेशक लोनी एंटोनी ने कहा कि 100 रुपये के नये नोट के हिसाब से एटीएम मशीनों को अनुकूल बनाने में 12 महीने लगेंगे और इसपर 100 करोड़ रुपये खर्च होंगे. Also Read - PM मोदी ने कहा, RBI की घोषणाएं अर्थव्यवस्था को कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाएंगी

RBI जारी करने जा रहा है 100 रुपये का नया नोट, होंगी ये खासियतें

उन्होंने कहा कि चूंकि अभी सभी एटीएम मशीनों को नये नोट के अनुकूल नहीं बनाया जा सका है, अगर समुचित तरीके से योजना नहीं बनाई गई तो उन्हें 100 रुपये के नये नोटों के अनुकूल बनाने में अधिक समय लगेगा.

अगस्त-सितंबर तक आएगा नया नोट

10 रुपये के नये नोट छपने का काम मध्य प्रदेश के देवास में आरबीआई प्रिटिंग प्रेस में शुरू हो चुका है. अगस्त-सितंबर तक नया नोट बाजार में जाएगा. नया नोट बैंगनी रंग का होगा और इसका आकार 10 रुपये के नोट जितना होगा. इसमें एक तरफ महात्मा गांधी की तस्वीर है तो दूसरी तरफ गुजरात के पाटन में मशहूर बावड़ी रानी की वाव की तस्वीर जिसका अपना सांस्कृतिक महत्व है. इसके अलावा नये नोट में सुरक्षा के मद्देनजर कई और फीचर्स भी होंगे.