चेन्नई-बेंगलुरु औद्योगिक गलियारा परियोजना के लिए पिछले तीन वित्तीय वर्षों के दौरान कुल 1,060.02 करोड़ रुपये खर्च किए गए हैं. सरकार ने राज्यसभा को यह बात बताया है. एमडीएमके महासचिव वाइको द्वारा उठाए गए एक प्रश्न का उत्तर देते हुए, वाणिज्य और उद्योग राज्य मंत्री सोम प्रकाश ने कहा कि 30 दिसंबर, 2020 को आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति (सीसीईए) ने कृष्णापटनम नोड (आंध्र प्रदेश) और तुमकुरु नोड की परियोजना लागत को मंजूरी दी. (कर्नाटक) क्रमश: 2,139.44 करोड़ रुपये और 1,701.81 करोड़ रुपये दिए गए हैं.Also Read - Karnataka: बेंगलुरू में ढाई साल की बच्ची कमरे में 5 दिनों तक रही, जहां लटकी मिलीं 5 डेडबॉडी

सरकार ने कहा कि इन दो नोड्स में ट्रंक इंफ्रास्ट्रक्च र के निर्माण की समयसीमा 36-48 महीने तक है. Also Read - इस राज्य में सैकड़ों मंदिर तोड़े जाने लेकर BJP पर साधा निशाना, कांग्रेस और JDS का हमला

सरकार के अनुसार, चेन्नई-बेंगलुरु औद्योगिक गलियारे की परिप्रेक्ष्य योजना पूरी हो चुकी है. और विकास के लिए निम्नलिखित तीन प्राथमिकता वाले नोड्स की पहचान की गई है, (1) आंध्र प्रदेश में कृष्णापट्टनम, (2) कर्नाटक में तुमकुरु और (3) तमिलनाडु में पोन्नेरी है. Also Read - Karnataka में सियासत, विपक्षी दल कांग्रेस के नेता बैलगाड़ी से पहुंचे विधानसभा

कृष्णापट्टनम (आंध्र प्रदेश) और तुमकुरु (कर्नाटक) में नोड्स के लिए मास्टर प्लानिंग और प्रारंभिक इंजीनियरिंग गतिविधियों को पूरा कर लिया गया है.

तीन नोड्स पर किए गए कार्यों के संबंध में सरकार ने कहा कि पहला कृष्णापटनम (आंध्र प्रदेश): प्रोजेक्ट स्पेशल पर्पज व्हीकल (एसपीवी) द्वारा प्रोजेक्ट मैनेजमेंट कंसल्टेंट (पीएमसी) की नियुक्ति की गई है. और 1,814 एकड़ जमीन प्रोजेक्ट एसपीवी को ट्रांसफर की गई है. पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय की विशेषज्ञ मूल्यांकन समिति (ईएसी) ने ‘सैद्धांतिक’ अनुमोदन प्रदान किया है. दूसरा तुमकुरु (कर्नाटक)- पीएमसी को प्रोजेक्ट एसपीवी द्वारा नियुक्त किया गया है. परियोजना एसपीवी को 1,668 एकड़ भूमि हस्तांतरित की गई है. तीसरा पोन्नेरी नोड (तमिलनाडु)- मास्टर प्लानिंग और प्रारंभिक इंजीनियरिंग गतिविधियों के लिए सलाहकार नियुक्त किया गया है.

(आईएएनएस)