मुंबई: रुपए में लगातार सातवें दिन गिरावट रही. वृहद आर्थिक मोर्चे पर ऊपजी चिंताओं और उभरती अर्थव्यवस्थाओं की मुद्रा में गिरावट के चलते भारतीय मुद्र्रा गुरूवार को पहली बार 72 रुपए प्रति डॉलर के स्तर से भी नीचे लुढ़क गई. कारोबार के दौरान रुपया एक समय रुपए की विनिमय दर 72.11 रुपए के ऐतिहासिक निम्न स्तर तक चली गई लेकिन कारोबार की समाप्ति पर 24 पैसे गिरकर यह 71.99 रुपए प्रति डॉलर पर बंद हुआ. Also Read - रुपए में गिरावट, बढ़ता एनपीए अभी भी चिंता का विषय: RBI के पूर्व गवर्नर

रुपए की लगातार गिरावट पर वित्त मंत्री ने दिलाया भरोसा, डॉलर मजबूत हुआ है रुपया कमजोर नहीं हुआ Also Read - रिजर्व बैंक गवर्नर ने कहा- अन्य उभरते बाजारों की तुलना में 74 पर रुपया बेहतर स्थिति में

आरबीआई ने विभिन्न स्तरों पर हस्तक्षेप किया, लेकिन यह रुपए की गिरावट को रोकने में कामयाब नहीं हो पाया. कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों, विदेशी निधियों की सतत निकासी तथा बढ़ते चालू खाता घाटे के कारण रुपया भारी दबाव में रहा. इसके अलावा वैश्विक व्यापार युद्ध भड़कने की चिंताओं के कारण भी कारोबारी धारणा प्रभावित हुई. Also Read - रुपया अबतक के सबसे निचले स्तर पर, नीति आयोग के उपाध्यक्ष बोले- चिंता की कोई बात नहीं

रुपये ने गिरावट के सारे रिकॉर्ड तोड़े, डॉलर के मुकाबले पहली बार 70 के पार पहुंचा

अंतरबैंक विदेशी मुद्रा बाजार में रुपया गुरुवार को 13 पैसे की तेजी के साथ 71.62 रुपए पर खुला लेकिन दोपहर के कारोबार में यह लुढ़कता हुआ पहली बार 72 रुपए के स्तर से भी नीचे 72.11 रुपए तक चला गया और अंत में 71.99 रुपए प्रति डॉलर पर बंद हुआ. इसके विपरीत घरेलू शेयर बाजार में तेजी देखी गई.

रुपये में ऐतिहासिक गिरावट, अब तक के सबसे निचले स्तर पर पहुंचा

इस बीच फाइनेंशल बेंचमार्क इंडिया प्रा लि (एफबीआईएल) ने डॉलर रुपए के लिए संदर्भ दर 71.7533 रुपए प्रति डॉलर और यूरो-रुपए के लिए 83.1310 रुपए प्रति यूरो तय की थी. अन्तरमुद्रा कारोबार में पौंड, यूरो और जापानी येन के मुकाबले रुपए में गिरावट रही.