मुंबई: देश की मुद्रा रुपए की कीमत में सोमवार को भारी दबाव और संकट में दिखाई दी. तुर्की के आर्थिक संकट का दुनियाभर के बाजारों पर असर पड़ा है. देश के विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में भी रुपया तेजी से गिरा है. अमेरिकी डॉलर में मजबूती के चलते रुपया सोमवार को 110 पैसे की जबर्दस्त गिरावट के साथ अब तक के सर्वकालिक निम्न स्तर 69.93 रुपए प्रति डॉलर पर पहुंच गया. पिछले पांच वर्षो में रुपए में यह एक दिन में आई सबसे बड़ी गिरावट है. इससे पूर्व अगस्त 2013 में रुपया एक दिन में 2.4 प्रतिशत अथवा 148 पैसे की गिरावट के साथ बंद हुआ था. रुपये की विनिमय दर में यह पांच साल में एक दिन में आई सबसे बड़ी गिरावट है.

घबराहट और अफरातफरी ने व्यापारिक कारोबारी धारणा पर दबाव बढ़ा दिया. व्यापारियों और सट्टेबाजों को किसी मौद्रिक प्राधिकार द्वारा घरेलू मुद्रा को समर्थन देने के लिए बाजार में हस्तक्षेप करने के कोई आसार नजर नहीं आए. पौंड, यूरो और जापानी येन के मुकाबले भी रुपये में गिरावट आई है.

तेल की कीमतों ने भी प्रभावित किया
अमेरिकी डॉलर के मुकाबले तुर्की लीरा सोमवार को 8 फीसदी की गिरावट के साथ 7.24 के निचले स्तर को छू गया, जिससे यह आशंका बढ़ी है कि इससे यूरोप में वित्तीय संस्थानों पर असर पड़ सकता है. वित्त मंत्रालय के संकट में सुधार के लिए कदम उठाने के आश्वसन के बाद इसमें कुछ सुधार आया. विदेशी संस्थागत निवेशकों के निवेश के अभाव और बढ़ते कच्चे तेल की कीमतों ने भी रुपए को प्रभावित किया.

70 रुपए तक जा सकता है 
सार्वजनिक क्षेत्र के एक बैंक के वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, “डालर के मुकाबले रुपए के इस स्तर पर पहुंचने पर आरबीआई सहज स्थिति में नहीं रह पाएगा. उसे हर स्तर पर रुपए का बचाव करते देखा जाएगा.” उन्होंने कहा कि डॉलर के मुकाबले रुपया जल्द ही 70 रुपए के स्तर तक गिर सकता है.

68.42 रुपए प्रति डॉलर पर मजबूत खुला
कारोबार की शुरुआत में सोमवार को रुपया अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 41 पैसे की तेजी के साथ 68.42 रुपए प्रति डॉलर पर मजबूत खुला. हालांकि, यह जल्द ही घरेलू शेयर बाजार की गिरावट और वैश्विक बाजार की मंदी के रुख के अनुरूप 69.62 रुपए तक नीचे लुढ़क गया.

सर्वकालिक निम्न स्तर 69.93 रुपए प्रति डॉलर पर पहुंचा
माना जा रहा है रिजर्व बैंक के हस्तक्षेप के कारण रुपया अपने आरंभिक भारी नुकसान की स्थिति से उबर गया, लेकिन डॉलर की भारी मांग ने कारोबार की समाप्ति पर रुपए को 110 पैसे या 1.60 प्रतिशत की भारी गिरावट के साथ अब तक के सर्वकालिक निम्न स्तर 69.93 रुपए प्रति डॉलर पर पहुंचा दिया. वहीं, अतंरमुद्रा कारोबार में रुपया पौंड, यूरो और जापानी येन के मुकाबले गिरावट दर्शाता बंद हुआ. देश का विदेशी मुद्रा भंडार गत तीन अगस्त को समाप्त सप्ताह में 1.49 अरब डालर घटकर 402.70 अरब डालर के सात माह के निम्न् स्तर पर आ गया.