नई दिल्ली: भारतीय स्टेट बैंक ने 2,490 करोड़ रुपये की अपनी दो गैर-निष्पादित परिसंपत्तियों (एनपीए) की नीलामी के लिए बोलियां आमंत्रित की हैं. बैंक द्वारा दिए गए कर्ज की रिकवरी के लिए एस बी आई ने यह कदम उठाया है.

7th Pay Commission: केंद्रीय कर्मचारियों को अप्रैल 2018 के प्रभाव से मिलेगी बढ़ी सैलरी, न्यूनतम वेतन भी 3 हजार बढ़ेगा

बैंक के बोली आवेदन दस्तावेज के अनुसार वित्तीय परिसंपत्तियों की बिक्री पर बैंक की संशोधित नीति की शर्तों और नियामकीय दिशानिर्देशों के अनुसार वह इन एनपीए की बिक्री के लिए परिसंपत्ति पुनर्गठन कंपनियों, बैंकों, गैर बैंकिंग वित्तीय कंपनियों और वित्तीय संस्थानों को आमंत्रित करता है. यह दोनों कंपनियां बैंक से लिया कर्ज चुकाने में असफल रही हैं. अब बैंक अपने कर्ज की भरपाई इनके एनपीए को बेच कर करना चाहता है.

किफायत से किया ‘मून मैन’ ने तमिलनाडु से अंतरिक्ष तक का सफर: इसी महीने हो रहे हैं रिटायर

SBI का करोड़ों का कर्ज फंसा है
फंसे कर्ज के यह दो खाते बांबे रेयॉन फैशन लिमिटेड और शिवम धातु उद्योग प्राइवेट लिमिटेड से संबद्ध हैं. इनके पास बैंक का क्रमश: 2,260.79 करोड़ रुपये और 229.32 करोड़ रुपये का कर्ज फंसा हुआ है.
इसके लिए ई-बोलियों का आकलन 20 अगस्त को होगा. एसबीआई का सकल एनपीए इस साल जून के अंत में कुल कर्ज का 10.69 प्रतिशत था जो एक साल पहले इसी अवधि में 9.97 प्रतिशत थाए मूल्य के हिसाब से यह जून 2018 में 2,12,840 करोड़ रुपये रहा जो एक साल पहले इसी अवधि में 1,88,068 करोड़ रुपये था. स्टेट बैंक को चालू वित्त वर्ष की जून तिमाही में 4,876 करोड़ रुपये का भारी घाटा हुआ इसका कारण फंसे कर्ज में वृद्धि है. (इनपुट एजेंसी )