नई दिल्ली: देश के सबसे बड़े बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया यानी एसबीआई ने एटीएम से कैश निकालने की सीमा कम करने का फैसला किया है. इकनॉमिक टाइम्स की खबर के मुताबिक एसबीआई का यह फैसला इस महीने के अंत में यानी 31 अक्टूबर से लागू हो सकता है. अगर यह फैसला लागू होता है तो एसबीआई के ग्राहक एक दिन में 20 हजार रुपए कैश ही निकाल पाएंगे. अभी एक दिन में अधिकतम 40 हजार रुपए कैश निकाल सकते हैं. एसबीआई का कहना है कि एटीएम ट्रांजेक्शन में बढ़ती धोखाधड़ी की शिकायतों और कैशलेस को बढ़ावा देने के लिए एटीएम से कैश निकालने की सीमा को घटाने का फैसला किया गया है.

अक्टूबर शुरू होते ही पड़ी महंगाई की मार, पेट्रोल-डीजल से लेकर सीएनजी तक के बढ़े दाम

एसबीआई के मैनेजिंग डायरेक्टर पीके गुप्ता का कहना है कि हमारा आंतरिक विश्लेषण दिखाता है कि एटीएम से अधिकतर छोटी राशि की निकासी होती है. 20 हजार रुपये अधिकतर ग्राहकों के लिए काफी है. हम छोटी निकासी पर फ्रॉड में कमी को लेकर भी प्रयास कर रहे हैं. उन्होंने बताया कि जिन ग्राहकों को ज्यादा कैश की जरूरत है वे बैंक से ऐसे कार्ड ले सकते हैं जिनसे ज्यादा कैश निकाल सकते हैं. उन्होंने बताया कि बैंक में अधिक बैलेंस रखने वाले ग्राहकों को ऐसे कार्ड दिए जाते हैं.

वॉट्सऐप पर उड़ी इस कंपनी की खबर, एक ही दिन में गंवा दिया 71 फीसदी मार्केट वैल्यू

एसबीआई ने यह फैसला ऐसे समय में किया है जब देश में त्योहारी मौसम शुरू होने वाला है. इस दौरान लोग आम दिनों की तुलना में ज्यादा खरीददारी करते हैं. एसबीआई का यह कदम कैशलेस ट्रांजेक्श को बढ़ावा देने के लिए भी उठाया गया है. एक रिपोर्ट के मुताबिक देश में इस समय जनता के हाथ में 18.5 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा का कैश है जो अब तक का अधिकतम स्तर है. नोटबंदी के दौर की तुलना में यह दोगुने से अधिक है. नोटबंदी के बाद जनता के हाथ में करीब 7.8 लाख करोड़ रुपये कैश ही रह गया था.

भारतीय रिजर्व बैंक ने ये आंकड़े जारी किए हैं. आरबीआई के मुताबिक, इस समय चलन में कुल कैश 19.3 लाख करोड़ रुपये से अधिक है जबकि नोटबंदी के बाद यह आंकड़ा लगभग 8.9 लाख करोड़ रुपये था. चलन में मौजूद कुल कैश में से बैंकों के पास पड़ा कैश घटा देने पर पता चलता है कि चलन में कितना कैश लोगों के हाथ में पड़ा है.