State Bank Of India: देश के सबसे बड़े बैंक एसबीआई (SBI) ने बैंकिंग क्षेत्र में एक बड़ा बदलाव करने का फैसला किया है. अगर यह योजना सफल रही तो आने वाले समय में आपको डेबिट (Debit Card) और क्रेडिट (Credit Card) कार्ड देखने को नहीं मिलेंगे. देश का सबसे बड़ा बैंक इसकी जगह पर अधिक डिजिटल भुगतान प्रणाली लाने की दिशा में काम कर रहा है. स्टेट बैंक के चेयरमैन रजनीश कुमार ने यहां एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा, ‘हमारी डेबिट कार्ड को प्रचलन से बाहर करने की योजना है. हम इस बात को लेकर आश्वस्त हैं कि हम उन्हें समाप्त कर सकते हैं.’ उन्होंने कहा कि देश में 90 करोड़ डेबिट कार्ड और तीन करोड़ क्रेडिट कार्ड हैं. कुमार ने कहा कि डिजिटल समाधान पेश करने वाले उसके योनो प्लेटफॉर्म (Yono platform) की डेबिट कार्ड मुक्त देश बनाने में अहम भूमिका होगी.

कुमार ने कहा कि योनो प्लेटफॉर्म (Yono platform) के जरिए एटीएम मशीनों से नकदी की निकासी या दुकानों से सामान की खरीदी की जा सकती है. उन्होंने कहा कि बैंक पहले ही 68,000 ‘योनो कैशप्वाइंट’ की स्थापना कर चुका है और अगले 18 माह में इसे 10 लाख करने की योजना है. उन्होंने यह भी कहा कि क्रेडिट कार्ड को भी चलन से दूर करने की योजना है. इसके लिए योनो प्लेटफॉर्म (Yono platform) आपको कुछ तरह की खरीदारी पर क्रेडिट भी उपलब्ध कराएगा. कुमार ने कहा कि अगले 5 साल में आपको अपनी जेब में कोई प्लास्टिक कार्ड रखने की बहुत ही कम जरूरत पड़ेगी. उन्होंने का भविष्य वर्चुअल कूपन्स का है. उन्होंने कहा कि मौजूदा समय में QR कोड भी पेमेंट सुनिश्चित करने का एक किफायती तरीका है.