मुंबई: देश के सबसे बड़ा बैंक एसबीआई SBI ने बुधवार को विभिन्न परिपक्वता अवधि की मियादी जमाओं और कोष की सीमांत लागत आधारित ब्याज दरों (एमसीएलआर) में कटौती की घोषणा की. बैंक ने एक महीने में दूसरी बार ब्याज में कटौती की है. नई दरें 10 मार्च से प्रभाव में आएंगी. Also Read - कोरोना महामारी के कारण SBI Clerk की मुख्य परीक्षा हुई स्थगित

एसबीआई ने विभिन्न परिपक्वता अवधि के लिए खुदरा मियादी जमा (2 करोड़ रुपए से कम) पर ब्याज दरों में 0.10 प्रतिशत से 0.50 प्रतिशत की कटौती की है. Also Read - SBI के 2,56,000 कर्मचारी 2 दिन की सैलरी से PM CARES Fund में 100 करोड़ रुपए दान देंगे

सात दिन से 45 दिन में परिपक्व होने वाले मियादी जमाओं पर ब्याज दर अब 4 प्रतिशत होगी, जो पहले 4.50 प्रतिशत थी.
वहीं एक साल और उससे अधिक अवधि के लिए जमाओं पर ब्याज दर में 0.10 प्रतिशत की कटौती की गई है. Also Read - AIBOC ने वित्त मंत्री द्वारा SBI प्रमुख को लगाई गई फटाकर की आलोचना की, कहा- वायरल ऑडियो क्लिप से हुआ खुलासा

एक साल से दो साल से कम अवधि के लिए मियादी जमा पर ब्याज दर अब 5.90 प्रतिशत होगी, जो पहले 6 प्रतिशत थी. बुजुर्गों के लिए इसी अवधि के लिए मियादी जमा पर ब्याज दर अब 6.50 प्रतिशत के बजाए 6.40 प्रतिशत होगी.

बैंक ने 180 दिन और उससे अधिक अवधि के लिए दो करोड़ रुपए और उससे अधिक (थोक जमा) की मियादी जमाओं पर ब्याज दर में 0.15 प्रतिशत की कटौती की है.

एक साल और उससे अधिक की अवधि की थोक जमा राशि पर ब्याज दर अब 4.60 प्रतिशत होगी जो पहले 4.75 प्रतिशत थी. इससे पहले, फरवरी में बैंक ने खुदरा मियादी जमाओं पर ब्याज दरों में 0.10 से 0.5 प्रतिशत की कटौती की थी. जबकि थोक जमा के मामले में 0.25 से 0.50 प्रतिशत की कटौती की गई है.

एसबीआई के अनुसार इसके अलावा बैंक ने एक साल की एमसीएलआर 0.10 प्रतिशत घटाकर 7.75 प्रतिशत कर दी है, जो पहले 7.85 प्रतिशत थी. एक दिन की अवधि और एक महीने के लिए एमसीएलआर 0.15 प्रतिशत घटाकर 7.45 प्रतिशत कर दी गई है. तीन माह अ‍वधि के लिए एमसीएलआर को 7.65 प्रतिशत से घटाकर 7.50 प्रतिशत कर दिया गया है.

इसी तरह दो साल और तीन साल के एमसीएलआर को 0.10 प्रतिशत घटाकर क्रमश: 7.95 प्रतिशत और 8.05 प्रतिशत कर दिया गया है. नई दरें 10 मार्च से प्रभाव में आएंगी. इससे पहले, सोमवार को यूनियन बैंक ऑफ इंडिया ने 11 मार्च से अपने एमसीएलआर में 0.10 प्रतिशत की कमी करने की घोषणा की थी.