मुंबई/ नई दिल्‍ली: बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स 2,713.41 अंक का गोता लगाकर 31,390.07 तथा एनएसई निफ्टी 757.80 अंक लुढ़क कर 9,197.40 अंक पर बंद हुुआ. बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स सोमवार को 2,713 अंक का गोता लगा गया. कोरोना वायरस माहामारी की चिंता में एशिया के अन्य बाजारों में गिरावट के साथ घरेलू बाजार में भी गिरावट रही. Also Read - Stock Market Today 3 APRIL 2020: शुक्रवार को 350 अंक टूटा सेंसेक्स, निफ्टी 8,200 से नीचे

बाजार में इस बात की अटकलें हैं कि आरबीआई मौद्रिक नीति समीक्षा से पहले नीतिगत दर में कटौती कर सकता है. दुनिया के अन्य केंद्रीय बैंकों द्वारा नीतिगत दर में कटौती के बाद यहां भी रेपो दर में कमी किये जाने की मांग के बीच रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने शाम 4 बजे संवाददाता सम्मेलन बुलाया है. Also Read - Stock Market Today 1 APRIL 2020: महीने के पहले दिन लाल निशान के साथ खुला शेयर बाजार, 599 अंक गिरा सेंसेक्स

कारोबार की समाप्ति पर तीस शेयरों वाला बीएसई सेंसेक्स सोमवार को 2,713.41 अंक यानी 7.96 प्रतिशत की गिरावट के साथ 31,390.07 अंक पर बंद हुआ. इसी प्रकार, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 757.80 अंक यानी 7.61 प्रतिशत की गिरावट के साथ 9,197.40 अंक पर बंद हुआ. Also Read - Stock Market Today 31 March 2020: मंगलवार को हरे निशान के साथ खुला शेयर बाजार, सेंसेक्स-निफ्टी में बढ़त

सेंसेक्स में शामिल सभी शेयर नुकसान में रहे. इंडसइंड में सर्वाधिक नुकसान हुआ. उसके बाद क्रमश: टाटा स्टील, एचडीएफसी, आईसीआईसीआई बैंक, एक्सिस बैंक, इन्फोसिस और आईटीसी का स्थान रहा.

कारोबारियों के अनुसार आरबीआई के अचानक से संवाददाता सम्मेलन बुलाये जाने से बाजार में और उतार-चढ़ाव आया. कई विश्लेषक पिछले सप्ताह से कह रहे हैं कि आरबीआई के पास जून तक रेपो दर में 0.65 प्रतिशत तक कटौती की गुंजाइश है. बार्कलेज और बोफा जैसी कंपनियों ने भी तीन अप्रैल को होने वाली मौद्रिक नीति समीक्षा से पहले कटौती की संभावना जतायी है.

कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर कई प्रकार की पाबंदी से वैश्विक आर्थिक मंदी की आशंका में वैश्विक बाजारों में भी गिरावट रही. आनंद राठी शेयर्स एंड स्टॉक ब्रोकर के इक्विटी प्रमुख नरेंद्र सोलंकी ने कहा कि अमेरिकी फेडरल रिजर्व के रविवार को अचानक से नीतिगत दर में कटौती के बाद एशिया के अन्य बाजारों में नरमी के साथ घरेलू बाजार शुरूआती कारोबार में गिरावट के साथ खुले.

एशिया के अन्य बाजारों में शंघाई 3.40 प्रतिशत, हांगकांग 4.03 प्रतिशत, सोल 3.19 प्रतिशत तथा टोक्यो 2.46 प्रतिशत नीचे आये. यूरोप के प्रमुख बाजारों में भी शुरूआती कारोबार में 8 प्रतिशत तक की गिरावट दर्ज की गयी. इस बीच, ब्रेंट क्रूड का वायदा भाव 7.53 प्रतिशत टूटकर 31.30 डॉलर प्रति बैरल पर आ गया.

कोरोना वायरस के कारण दुनिया के विभिन्न देशों में अब तक 6,000 लोगों की मौत हो चुकी है] जबकि 1,62,000 संक्रमित हैं. स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार भारत में सोमवार को इस वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 117 पहुंच गई है.

बता दें कि अमेरिका में फेडरल रिजर्व के ब्याज दर घटाने से वैश्विक अर्थव्यवस्था पर कोरोना वायरस से फैली महामारी के असर की चिंताओं ने घरेलू शेयर बाजार पर दबाव बढ़ा दिया. इस कारण सोमवार को शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स में दो हजार अंक से अधिक की गिरावट देखी गयी और निफ्टी 9,400 अंक के स्तर से भी नीचे आ गया.

नया हफ्ता बाजार के साथ इक्विटी सूचकांकों के लिए कोई राहत नहीं लेकर आया है, क्योंकि फिर से घातक नोवल कोरोनोवायरस बढ़ता जा रहा है. जहां बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का सेंसेक्स 2,713.41 अंक से अधिक गिरा, वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी सोमवार को 757.80 अंक लुढ़क कर 9,197.40 अंक पर बंद हुआ.

शुरुआती कारोबार में रुपया भी 41 पैसे टूटकर 74.16 रुपए प्रति डॉलर पर आ गया. बता दें कि बीएसई के 30 शेयरों वाले संवेदी सूचकांक सेंसेक्स में पिछले सप्ताह की उथल-पुथल जारी रही. यह 2,004.20 अंक यानी 5.88 प्रतिशत गिरकर 32,099.28 अंक पर चल रहा.

इसी तरह एनएसई का निफ्टी भी 596.25 अंक यानी 5.99 प्रतिशत की गिरावट के साथ 9,358.95 अंक पर चल रहा था. इससे पहले शुक्रवार को सेंसेक्स 1,325.04 अंक यानी 4.04 प्रतिशत और निफ्टी 365.05 अंक यानी 3.81 प्रतिशत की बढ़त में रहा था. शुक्रवार को सेंसेक्स ने दिवस के निचले स्तर से 5,380 अंक की सुधार दर्ज की थी.