मुंबई: अमेरिका- ईरान के बीच तनाव कम होने के संकेतों के बीच बंबई शेयर बाजार में बृहस्पतिवार को घटे शेयर मूल्यों पर निवेशकों की लिवाली बढ़ने से सेंसेक्स में 635 अंक का उछाल दर्ज किया गया. वहीं व्यापक आधार वाला निफ्टी सूचकांक 12,000 अंक से ऊपर निकल गया. बंबई शेयर बाजार का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 634.61 अंक या 1.55 प्रतिशत उछलकर 41,452.35 अंक पर बंद हुआ. इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 190.55 अंक या 1.58 प्रतिशत के लाभ के साथ 12,215.90 अंक पर पहुंच गया.

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ईरान के साथ शांति की पेशकश की है. ट्रंप के इस बयान के बाद वैश्विक निवेशकों के साथ ही घरेलू निवेशकों ने भी राहत की सांस ली और घटे भावों पर लिवाली शुरू कर दी. उधर, चीन ने कहा है कि उसके उप-प्रधानमंत्री लियू ही अगले सप्ताह वाशिंगटन जाएंगे और अमेरिका- चीन के बीच पहले चरण के अंतरिम व्यापार समझौते पर दस्तखत करेंगे. इस घोषणा से भी बाजार धारणा को बल मिला. सेंसक्स की कंपनियों में आईसीआईसीआई बैंक का शेयर सबसे अधिक 3.80 प्रतिशत चढ़ गया. एसबीआई, महिंद्रा एंड महिंद्रा, इंडसइंड बैंक, मारुति सुजुकी, एशियन पेंट्स और रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयर भी लाभ में रहे. वहीं दूसरी ओर टीसीएस, एचसीएल टेक, एनटीपीसी और सनफार्मा के शेयर 1.73 प्रतिशत तक नीचे आ गए.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आयोग में अर्थव्यवस्था की स्थिति पर विचार विमर्श किया
इस बीच, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बृहस्पतिवार को अर्थशास्त्रियों, क्षेत्र के विशेषज्ञों और उद्यमियों के साथ नीति आयोग में अर्थव्यवस्था की स्थिति पर विचार विमर्श किया और आर्थिक वृद्धि को प्रोत्साहन के लिए लघु और दीर्घावधि दोनों तरह के उपाय करने का वादा किया. जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा कि आगामी बजट में वृद्धि को प्रोत्साहन के उपायों तथा पश्चिम एशिया में तनाव घटने के बाद निवेशकों में उत्साह है. सरकार आर्थिक वृद्धि को समर्थन देने के लिए नीतिगत उपाय करने को तैयार है जिससे दीर्घावधि में शेयरों को लाभ होगा. नायर ने कहा कि लघु अवधि में बाजार का रुख तीसरी तिमाही के नतीजों से तय होगा. पिछले साल के कमजोर आधार प्रभाव की वजह से कंपनियों के तिमाही नतीजे बेहतर रहने की उम्मीद है.

डॉलर के मुकाबले रुपया 48 पैसे उछलकर 71.21 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ
बीएसई मिडकैप और स्मॉलकैप में 1.55 प्रतिशत तक का लाभ रहा. चीन का शंघाई, हांगकांग का हैंगसेंग, जापान का निक्की और दक्षिण कोरिया का कॉस्पी भी 2.31 प्रतिशत तक की बढ़त में रहे. शुरुआती कारोबार में यूरोपीय बाजार भी मजबूत रहे. इस बीच, ब्रेंट कच्चा तेल वायदा 0.40 प्रतिशत की बढ़त के साथ 65.70 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया. अंतर बैंक विदेशी विनिमय बाजार में डॉलर के मुकाबले रुपया 48 पैसे उछलकर 71.21 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ.