मुंबई: कोरोना वायरस को लेकर चिंता के बीच शुक्रवार को वैश्विक बाजारों में बिकवाली का सिलसिला चलने से यहां बंबई शेयर बाजार के सेंसेक्स में 894 अंक की भारी गिरावट आई. इसके अलावा निजी क्षेत्र के येस बैंक पर नियामकीय अंकुशों से भी बाजार धारणा प्रभावित हुई. बंबई शेयर बाजार का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स कारोबार के दौरान एक समय 1,459 अंक तक नीचे आ गया था. अंत में यह 893.99 अंक या 2.32 प्रतिशत के नुकसान से 37,576.62 अंक पर बंद हुआ. Also Read - Share market update, 1 April 2021: नये वित्त वर्ष के पहले दिन शेयर बाजार गुलजार, 400 अंक चढ़ा सेंसेक्स

इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 279.55 अंक या 2.48 प्रतिशत के नुकसान से 10,989.45 अंक पर आ गया. भारतीय रिजर्व बैंक ने बृहस्पतिवार को निजी क्षेत्र के येस बैंक पर कई तरह के अंकुश लगाते हुए प्रत्येक खाते पर निकासी की सीमा 50,000 रुपये मासिक तय कर दी. इसके अलावा बैंक के निदेशक मंडल को भी भंग कर दिया गया है. इससे येस बैंक का शेयर 55 प्रतिशत टूट गया. Also Read - Income Tax New Rules: आज से बदल रहे हैं इनकम टैक्स के नियम, जानिए- किस तरह से होगा आपकी रोजमर्रा की जिंदगी पर असर?

बैंक कोई नया ऋण नहीं दे सकेगा और न ही पुराने कर्ज का नवीकरण कर सकेगा. इसके अलावा वह किसी तरह का निवेश या किसी तरह के भुगतान की भी अनुमति नहीं दे सकेगा. सेंसेक्स की कंपनियों में टाटा स्टील का शेयर सबसे अधिक छह प्रतिशत नीचे आया. एसबीआई, इंडसइंड बैंक, एचडीएफसी, आईसीआईसीआई बैंक और ओएनजीसी के शेयर भी नुकसान में रहे. वहीं दूसरी ओर बजाज आटो, मारुति और एशियन पेंट्स के शेयरों में लाभ रहा. अन्य एशियाई बाजारों में चीन का शंघाई, हांगकांग का हैंगसेंग, दक्षिण कोरिया का कॉस्पी और जापान का निक्की दो प्रतिशत से अधिक टूट गए. Also Read - Share market today, 31 March 2021: कल की तेजी के बाद आज शेयर बाजार में गिरावट, 400 अंक फिसला सेंसेक्स

शुरुआती कारोबार में यूरोपीय बाजार भी नुकसान में थे. ब्रेंट कच्चा तेल वायदा 2.54 प्रतिशत के नुकसान से 48.72 डॉलर प्रति बैरल पर आ गया. अंतर बैंक विदेशी विनियम बाजार में रुपया 32 पैसे टूटकर 73.24 प्रति डॉलर पर चल रहा था.

(इनपुट भाषा)