नई दिल्ली: बंबई शेयर बाजार के सेंसेक्स में बुधवार को 550 अंक की जोरदार गिरावट आई. कमजोर बाजार रुख के अनुरूप बीएसई की सूचीबद्ध कंपनियों के निवेशकों की पूंजी 1.71 लाख करोड़ रुपए घटी है. बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स बुधवार को 550 अंक टूटकर 36,000 अंक के स्तर से नीचे आ गया. रुपए के नए सर्वकालिक निचले स्तर पर आने, कच्चे तेल की कीमतों में वृद्धि तथा विदेशी कोषों की निकासी से आईटी, वाहन और दूरसंचार कंपनियों के शेयरों में बिकवाली से बाजार में गिरावट रही.

बंबई शेयर बाजार का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 550.51 अंक या 1.51 प्रतिशत के नुकसान से 35,975.63 अंक पर आ गया. इससे बीएसई की सूचीबद्ध कंपनियों का बाजार पूंजीकरण 1,71,287.84 करोड़ रुपए घटकर 1,43,71,351.05 करोड़ रुपए रह गया.

अंतर बैंक विदेशी विनिमय बाजार में कारोबार के दौरान रुपया अपने सर्वकालिक निचले स्तर 73.41 प्रति डॉलर पर आ गया. वहीं, ब्रेंट क्रूड 85 डॉलर प्रति बैरल के करीब पहुंच गया. इन सब कारकों से बाजार धारणा प्रभावित हुई.

रुपए और कच्चे तेल महंगाई से सेंसेक्स टूटा
बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स बुधवार को 550 अंक टूटकर 36,000 अंक के स्तर से नीचे आ गया. रुपये के नए सर्वकालिक निचले स्तर पर आने, कच्चे तेल की कीमतों में वृद्धि और विदेशी कोषों की निकासी से आईटी, वाहन और दूरसंचार कंपनियों के शेयरों में बिकवाली से बाजार में गिरावट रही. बंबई शेयर बाजार का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स कमजोर रुख से खुलने के बाद और नीचे आया. एक समय यह 35,911.82 अंक तक गिर गया था. अंत में सेंसेक्स 550.51 अंक या 1.51 प्रतिशत के नुकसान से 35,975.63 अंक पर बंद हुआ. इससे पहले सोमवार को सेंसेक्स 299 अंक चढ़ा था.

निफ्टी भी लगातार नकारात्मक रहा
नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी लगातार नकारात्मक दायरे में रहा और एक समय दिन के निचले स्तर 10,843.75 अंक पर आ गया. अंत में निफ्टी 150.05 अंक या 1.36 प्रतिशत के नुकसान से 10,858.25 अंक पर बंद हुआ.

रुपए के निचले स्तर पर आने से बाजार टूटा
जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा, ”रुपए के नए निचले स्तर पर आने से बाजार टूटा. इसके अलावा भुगतान संतुलन को लेकर भी चिंता बनी हुई है.” नायर ने कहा, ” सरकार की चालू वित्त वर्ष की दूसरी छमाही में कर्ज कम करने की योजना के बावजूद रिजर्व बैंक द्वारा नीतिगत दरों में बढ़ोतरी की संभावना से बॉंड प्राप्ति बढ़ रही है.” बाजार विश्लेषकों का कहना है कि शुक्रवार को रिजर्व बैंक की मौद्रिक समीक्षा के नतीजे आने के बाद बाजारों को नई दिशा मिलेगी.’

रुपए सर्वकालिक निचले स्तर 73.41 प्रति डॉलर पर आया
भारतीय रिजर्व बैंक की द्विमासिक मौद्रिक समीक्षा बैठक बुधवार को शुरू हुई. इससे निवेशकों ने सतर्कता का रुख अपनाया. माना जा रहा है कि मौद्रिक नीति समिति ब्याज दरों में चौथाई प्रतिशत की और वृद्धि कर सकती है. अंतर बैंक विदेशी विनिमय बाजार में बुधवार को दिन में डॉलर के मुकाबले रुपया अपने सर्वकालिक निचले स्तर 73.41 प्रति डॉलर पर आ गया. इस बीच, ब्रेंट क्रूड 85 डॉलर प्रति बैरल के करीब पहुंच गया है. मंगलवार को गांधी जयंती पर घरेलू बाजारों में अवकाश था.

इन कंपनियों के शेयर टूटे
सेंसेक्स की कंपनियों में महिंद्रा एंड महिंद्रा का शेयर सबसे अधिक 6.66 प्रतिशत टूटा. टीसीएस में 4.14 प्रतिशत का नुकसान रहा. अन्य कंपनियों में एक्सिस बैंक, आईसीआईसीआई बैंक, मारुति सुजुकी, कोटक बैंक, इन्फोसिस, भारती एयरटेल, हीरो मोटोकॉर्प, रिलायंस इंडस्ट्रीज, एशियन पेंट, पावरग्रिड, हिंदुस्तान यूनिलीवर, विप्रो, सनफार्मा, एसबीआई, एनटीपीसी, टाटा मोटर्स, आईटीसी, टाटा स्टील, इंडसइंड बैंक, एचडीएफसी बैंक, अडाणी पोर्ट्स और एलएंडटी के शेयर 3.91 प्रतिशत तक नीचे आए.

इनके शेयर बढ़े
वहीं दूसरी ओर यस बैंक का शेयर 5.79 प्रतिशत चढ़ गया. वेदांता में 3.09 प्रतिशत, कोल इंडिया में 1.60 प्रतिशत, ओएनजीसी में 1.45 प्रतिशत तथा बजाज आटो में 0.16 प्रतिशत का लाभ रहा. मिडकैप में 1.47 प्रतिशत और स्मॉलकैप में 0.40 प्रतिशत का नुकसान रहा. मंगलवार को गांधी जयंती पर बाजारों में अवकाश था.

विदेशी बाजारों का ये रहा हाल
इस बीच, शेयर बाजारों के अस्थायी आंकड़ों के अनुसार सोमवार को विदेशी कोषों ने 1,842 करोड़ रुपए के शेयर बेचे. वहीं घरेलू संस्थागत निवेशकों ने 1,805 करोड़ रुपए की लिवाली की. एशियाई बाजारों में हांगकांग का हैंगसेंग 0.13 प्रतिशत नीचे आया. जापान का निक्की 0.66 प्रतिशत टूटा. ताइवान में भी 0.51 प्रतिशत का नुकसान रहा. शुरुआती कारोबार में यूरोपीय बाजारों में मिला जुला रुख था.