मुंबई: विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) पर बढ़ा हुआ अधिभार वापस होने और बैंकों को एकमुश्त पूंजी उपलब्ध कराने के बाद सोमवार को शेयर बाजार ने 793 अंक की छलांग लगा ली. बैंकों के शेयरों की अगुवाई में बाजार में तेजी का रुख रहा. सेंसेक्स और निफ्टी दोनों ने आज एक ही दिन के कारोबार में 20 मई के बाद की सबसे ऊंची बढ़त दर्ज की है. मोदी सरकार ने बीते दिनों विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों पर बढ़ा हुआ अधिभार वापस लेने की घोषणा की थी.

बंबई शेयर बाजार का 30- शेयरों पर आधारित सेंसेक्स सोमवार को 1,052 अंक तक बढ़ने के बाद कारोबार की समाप्ति पर 792.96 अंक यानी 2.16 प्रतिशत बढ़कर 37,494.12 अंक पर बंद हुआ. कारोबार के दौरान सेंसेक्स ऊंचे में 37,544.48 अंक और नीचे में 36,492.65 अंक तक आया.

बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स सुबह 662.79 अंकों की तेजी के साथ 37,363.95 पर खुला और 792.96 अंकों या 2.16 फीसदी तेजी के साथ 37,494.12 पर बंद हुआ. दिनभर के कारोबार में सेंसेक्स ने 37,544.48 के ऊपरी स्तर और 36,492.65 के निचले स्तर को छुआ.

सेंसेक्स के 30 में से 22 शेयरों में तेजी रही. यस बैंक (6.33 फीसदी), एचडीएफसी (5.24 फीसदी), बजाज फाइनेंस (4.66 फीसदी), एचडीएफसी बैंक (4.29 फीसदी) और आईसीआईसीआई बैंक (4.09 फीसदी) में सर्वाधिक तेजी रही.

सेंसेक्स के गिरावट वाले शेयरों में प्रमुख रहे – टाटा स्टील (2.00 फीसदी), सनफार्मा (1.96 फीसदी), हीरो मोटो कॉर्प (1.92 फीसदी), वीईडीएल (1.82 फीसदी) और रिलायंस (0.79 फीसदी).

इसी प्रकार नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी एक बार फिर से 11,000 अंक के स्तर से ऊपर निकल गया. निफ्टी 228.50 अंक यानी 2.11 प्रतिशत बढ़कर 11,057.85 अंक पर बंद हुआ. कारोबार के दौरान यह ऊंचे में 11,070.30 अंक और नीचे में 10,756.55 अंक तक आया. नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी 170.95 अंकों की तेजी के साथ 11,000.30 पर खुला और 228.50 अंकों या 2.11 फीसदी तेजी के साथ 11,057.85 पर बंद हुआ. दिनभर के कारोबार में निफ्टी ने 11,070.30 के ऊपरी और 10,756.55 के निचले स्तर को छुआ.

सेंसेक्स और निफ्टी दोनों ने आज एक ही दिन के कारोबार में 20 मई के बाद की सबसे ऊंची बढ़त दर्ज की है. सेंसेक्स में शामिल शेयरों में येस बैंक के शेयर में सबसे ज्यादा लाभ दर्ज किया गया. इसके बाद एचडीएफसी, बजाज फाइनेंस, एचडीएफसी बैंक, आईसीआईसीआई बैंक, लार्सन एण्ड टुब्रो, स्टेट बैंक, एक्सिस बैंक और कोटक बैंक के शेयर मूल्य में 5.24 प्रतिशत तक वृद्धि दर्ज की गई. इसके विपरीत टाटा स्टील, सन फार्मा, हीरो मोटोकार्प, वेदांता, रिलायंस इंडस्ट्रीज, टाटा मोटर्स, मारुति सुजूकी और बजाज आटो का शेयर 2.01 प्रतिशत गिर गया.

बीएसई के मिडकैप और स्मॉलकैप सूचकांकों में भी तेजी रही. बीएसई का मिडकैप सूचकांक 207.43 अंकों की तेजी के साथ 13,409.51 पर और स्मॉलकैप सूचकांक 200.99 अंकों की तेजी के साथ 12,387.10 पर बंद हुआ. बीएसई के 19 में से 18 सेक्टरों में तेजी रही. तेजी वाले सेक्टरों में वित्त (3.86 फीसदी), रियल्टी (3.60 फीसदी), बैंकिंग (3.57 फीसदी), पूंजीगत वस्तुएं (2.84 फीसदी) और औद्योगिक (2.37 फीसदी) प्रमुख रूप से शामिल रहे. बीएसई के सिर्फ एक सेक्टर धातु (1.12 फीसदी) में गिरावट रही. बीएसई में कारोबार का रुझान सकारात्मक रहा. कुल 1705 शेयरों में तेजी और 811 में गिरावट रही, जबकि 123 शेयरों के भाव में कोई बदलाव नहीं हुआ.

कारोबारियों का कहना है कि अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा चीन से आयातित सामान पर और शुल्क लगाए जाने के बाद व्यापार युद्ध तेज होने की आशंका में एशियाई बाजारों में गिरावट का रुख रहा. शंघाई कंपाजिट इंडेक्स, हेंग सेंग, कास्पी और निक्केई सूचकांक काफी घटकर बंद हुए. हालांकि, बाद में ट्रंप ने कहा कि अमेरिका और चीन के व्यापार वार्ताकारों की जल्द ही बैठक होगी. ट्रंप ने दोनों आर्थिक महाशक्तियों के बीच व्यापार युद्ध में इसे एक अहम सफलता बताया.