एक अप्रैल से शेयरों के ट्रांसफर का नया नियम, जानिए सेबी ने क्‍या किया बदलाव

पूंजी बाजार नियामक सेबी ने कहा कि एक अप्रैल से सूचीबद्ध कंपनियों के शेयरों का हस्तांतरण केवल डिमैट (डिमैटेरियलाइज्ड) रूप में ही किया जा सकेगा.

Updated: March 28, 2019 8:56 AM IST

By India.com Hindi News Desk

एक अप्रैल से शेयरों के ट्रांसफर का नया नियम, जानिए सेबी ने क्‍या किया बदलाव

नयी दिल्ली: पूंजी बाजार नियामक सेबी ने बुधवार को कहा कि एक अप्रैल से सूचीबद्ध कंपनियों के शेयरों का हस्तांतरण केवल डिमैट (डिमैटेरियलाइज्ड) रूप में ही किया जा सकेगा. हालांकि, निवेशकों पर भौतिक रूप में शेयर रखने पर पाबंदी नहीं होगी.

Also Read:

Good News: इस रविवार भी खुले रहेंगे बैंक, रिजर्व बैंक ने बताई ये वजह

भारतीय प्रतिभूति एवं विनमय बोर्ड (सेबी) ने दिसंबर 2018 में सूचीबद्ध कंपनियों के शेयरों को केवल डिमैट रूप में ही हस्तांतरित करने के लिये समयसीमा बढ़ाकर एक अप्रैल कर दी थी. अब इस समयसीमा को आगे नहीं बढ़ाने का निर्णय किया गया है. शेयरों को अनिवार्य रूप से डिमैट रूप में हस्तांतरण का निर्णय मार्च 2018 में किया गया था. सेबी ने बुधवार को जारी एक विज्ञप्ति में कहा कि यह प्रावधान एक अप्रैल 2019 से अमल में आ जायेगा. डिमैट रूप में शेयरों को रखे जाने से कंपनियों में शेयरधारिता के रिकार्ड को पारदर्शी बनाये रखने में मदद मिलेगी.

विकास की रफ्तार में आई सुस्ती तो रेटिंग एजेंसी फिच ने घटाया GDP वृद्धि दर का अनुमान

नियामक ने हालांकि यह भी कहा कि निवेशकों के अपने पास शेयरों को भौतिक रूप में रखने पर पाबंदी नहीं होगी. हालांकि, अगर कोई निवेशक भौतिक रूप में रखे शेयरों को हस्तांतरित करना चाहता है तो एक अप्रैल 2019 के बाद ऐसा शेयरों के डिमैट रूप में होने के बाद ही किया जा सकेगा.

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. India.Com पर विस्तार से पढ़ें व्यापार की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Published Date: March 28, 2019 8:54 AM IST

Updated Date: March 28, 2019 8:56 AM IST