नई दिल्ली: रिजर्व बैंक के सुरक्षित आरक्षित कोष के नियम की समीक्षा के लिए जल्द समिति का गठन होगा. रिजर्व बैंक के निदेशक मंडल की सोमवार को हुई बैठक में इस समिति का प्रस्ताव किया गया है. आधिकारिक सूत्रों ने मंगलवार को यह जानकारी देते हुए कहा आर्थिक पूंजी ढांचे (ईसीएफ) पर समिति तय करेगी कि केंद्रीय बैंक के आरक्षित भंडार का उचित स्तर क्या होना चाहिए.Also Read - 'तीसरी लहर के बावजूद मजबूत हुई भारत की समग्र आर्थिक गतिविधि'

रिजर्व बैंक के केंद्रीय बोर्ड की सोमवार को दिनभर चली बैठक के बाद ईसीएफ के लिए एक विशेषज्ञ समिति के गठन का फैसला किया गया. इस बात पर भी सहमति बनी कि समिति की सदस्यता और नियम व शर्तें सरकार और रिजर्व बैंक द्वारा संयुक्त रूप से तय की जाएंगी. Also Read - Bank Holidays, January 2022: जनवरी में अभी बैंकों में 7 दिन और रहेंगी छुट्टियां, यहां देखें पूरी सूची

फिलहाल रिजर्व बैंक का पूंजी आधार 9.69 लाख करोड़ रुपए है. स्वतंत्र निदेशक और स्वदेशी के पक्षधर एस गुरुमर्ति तथा वित्त मंत्रालय चाहते हैं कि केंद्रीय बैंक को आरक्षित कोष की सीमा को वैश्विक स्तर पर अपनाए जाने वाले व्यवहार के अनुकूल काम करनी चाहिए. Also Read - Retail Inflation: खाद्य पदार्थो की ऊंची कीमतों से दिसंबर में बढ़ी महंगाई, RBI के निर्धारित लक्ष्य के करीब पहुंची

सूत्रों ने यह भी बताया कि सूक्ष्म, लघु और मझोले उपक्रमों (एमएसएमई) के कर्ज के पुनर्गठन के दिशानिर्देश भी जल्द जारी होंगे, जिससे नकदी संकट से जूझ रहे इस क्षेत्र की मदद की जा सके. मुंबई में रिजर्व बैंक की बोर्ड की बैठक में इस बारे में भी फैसल किया गया था.