मुंबई: बाजार में सोमवार को जोरदार तेजी आई और बीएसई सेंसेक्स सोमवार को 718 अंक से अधिक उछलकर 34,000 अंक के ऊपर पहुंच गया. कंपनियों के बेहतर तिमाही परिणाम और आरबीआई के नकदी बढ़ाने के कदम के बीच आईसीआईसीआई और एसबीआई समेत बैंक शेयरों में तेजी से बाजार में मजबूती आई.

नेशनल स्टाक एक्सचेंज का निफ्टी भी 220 अंक से अधिक की बढ़त के साथ 10,250 अंक पर आ गया. दो दिनों से जारी गिरावट के बाद 30 शेयरों पर आधारित सेंसेक्स 718.09 अंक या 2.15 प्रतिशत की तेजी के साथ 34,067.40 पर पहुंच गया. शुरूआती कारोबार में यह 173.33 अंक या 0.52 प्रतिशत की बढ़त के साथ 33,522.64 अंक पर खुला था.

नेशनल स्टाक एक्सचेंज का निफ्टी भी 220.85 अंक या 2.20 प्रतिशत की बढ़त के साथ 10,250 अंक के स्तर को प्राप्त कर लिया. सेंसेक्स के शेयरों में आईसीआईसीआई बैंक 11 प्रतिशत उछला. उसके बाद भारतीय स्टेट बैंक का स्थान रहा जो 8.04 प्रतिशत मजबूत हुआ. सेंसेक्स के कुल लाभ में अकेले आईसीआईसीआई का योगदान 200 अंक से अधिक रहा.

प्राइवेट सेक्‍टर का देश का शीर्ष बैंक आईसीआईसीआई बैंक चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में लाभ में आया, जिससे उसके शेयर में मजबूती आई. पहली तिमाही में बैंक को 119.55 करोड़ रुपए का शुद्ध घाटा हुआ था. हालांकि, सालाना आधार पर आईसीआईसीआई बैंक का एकीकृत शुद्ध लाभ सितंबर 2018 को समाप्त तिमाही में 42 प्रतिशत घटकर 1,204.62 करोड़ रुपए रहा.

सेंसेक्स में शामिल जिन अन्य शेयरों में तेजी आई, उसमें अडाणी पोट्र्स, एलएंडटी, एक्सिस बैंक, रिलायंस इंडस्ट्रीज, टाटा स्टील तथा टीसीएस में 7.33 प्रतिशत तक मजबूत हुए.

डॉ. रेड्डीज का शेयर एनएसई में 5.29 प्रतिशत मजबूत हुआ. कंपनी का शुद्ध लाभ सितंबर तिमाही में 77 प्रतिशत बढ़कर 504 करोड़ रुपए रहने की खबर से शेयर चमका.

रिजर्व बैंक के बैंकों में नवंबर में सरकारी शेयरों की खरीद के जरिये 40,000 करोड़ रुपए की पूंजी डालने के निर्णय से बाजार धारणा को बल मिला. नकदी समस्या से निपटने के लिए यह कदम उठाया गया है.

शेयर खान के कोष प्रबंधक (पीएमएस) रोहित श्रीवास्तव ने कहा कि बाजार खराब धारणा अधिक बिकवाली के बाद बाहर आया है. अल्पकाल के लिहाज से अच्छा संकेत यह है कि सौदों को पूरा करने के लिए की गई लिवाली से बाजार में तेजी आई.