Sugar Production: निजी चीनी मिलों का शीर्ष संगठन इंडियन शुगर मिल्स एसोसिएशन (इस्मा) ने चालू सीजन में चीनी उत्पादन के अपने अनुमान में कटौती की है. उद्योग संगठन द्वारा गुरुवार को जारी दूसरे अग्रिम उत्पादन अनुमान के अनुसार, देश में 2020-21 (अक्टूबर-सितंबर) के दौरान चीनी का उत्पादन 302 लाख टन रह सकता है, जबकि पहले अग्रिम अनुमान में इस्मा ने 310 लाख टन उत्पादन का आकलन किया था.Also Read - EPFO Latest Update: EPFO ने नवंबर 2021 में जोड़े 13.95 लाख ग्राहक, 8.28 लाख लोग पहली बार बने मेंबर

दूसरे अग्रिम उत्पादन अनुमान के अनुसार, उत्तरप्रदेश में चालू सीजन के दौरान चीनी का उत्पादन 105 लाख टन हो सकता है, जबकि पिछले सीजन 2019-20 (अक्टूबर-सितंबर) के दौरान उत्तर प्रदेश में चीनी का उत्पादन 126.37 लाख टन हुआ था. उद्योग संगठन का कहना है कि गन्ने की पैदावार कम होने और चीनी की रिकवरी भी कम होने के साथ-साथ गुड़/खांडसारी में गन्ने का उपयोग होने और बी-हैवी शीरे से एथेनॉल का उत्पादन होने की वजह उत्तर प्रदेश में चीनी का उत्पादन पिछले साल से कम रहने का अनुमान है. Also Read - Maharashtra Local Polls Result: महाराष्ट्र नगर पंचायत चुनाव के नतीजे में BJP सबसे बड़ी पार्टी, जानें किसे मिली कितनी सीटें

उत्तर प्रदेश में एथेनॉल (Ethanol) उत्पादन के लिए करीब 6.74 लाख टन चीन डायवर्ट होने का अनुमान है, जोकि पिछले साल 3.70 लाख टन था. Also Read - एलन मस्क के लिए पलक पांवड़े बिछाने को तैयार हैं कई राज्य, अब बेंगलुरु में टेस्ला प्लांट स्थापित करने के लिए किया आमंत्रित

महाराष्ट्र में चीनी का उत्पादन इस साल 105.41 लाख टन हो सकता है, इस प्रकार महाराष्ट्र फिर चीनी उत्पादन में देश में शीर्ष स्थान पर जा सकता है. पिछले साल महाराष्ट्र में चीनी का उत्पादन 61.69 लाख टन हुआ था. राज्य में गन्ने का रकबा 48 फीसदी बढ़ा हुआ है और मौसम अनुकूल रहने से पैदावार भी पिछले साल से बेहतर है.

महाराष्ट्र (Maharashtra) में भी पिछले साल के 1.42 लाख टन के मुकाबले चालू सीजन में 6.55 लाख टन चीनी एथेनॉल उत्पादन के लिए डायवर्ट होने का अनुमान है.

देश में चीनी का तीसरा सबसे बड़ा उत्पादक राज्य कर्नाटक (Karnataka the third largest state in India) में इस सीजन में 42.5 लाख टन चीनी उत्पादन का अनुमान है, जबकि पिछले सीजन के दौरान कर्नाटक में 34.94 लाख टन चीनी का उत्पादन हुआ था. कर्नाटक में पिछले साल के 2.42 लाख टन के मुकाबले चालू सीजन में 5.41 लाख टन चीनी एथेनॉल उत्पादन के लिए डायवर्ट होने का अनुमान है.

दूसरे अग्रिम उत्पादन अनुमान के मुताबिक, तमिलनाडु, गुजरात, आंध्रप्रदेश और तेलंगाना, बिहार, पंजाब, हरियाणा, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़, ओडिशा और उत्तराखंड को मिलाकर कुल 49.35 लाख टन चीनी का उत्पादन हो सकता है.

उद्योग संगठन के अनुमान के अनुसार, चीनी का पिछले सीजन का बकाया स्टॉक 107 लाख टन है और चालू सीजन में उत्पादन 302 लाख टन को मिलाकर कुल आपूर्ति 409 लाख टन रहेगा, जिसमें से 260 लाख टन सालाना घरेलू खपत और 60 लाख टन निर्यात होने के बाद अगले सीजन के लिए बचा हुआ स्टॉक 89 लाख टन रहेगा.

(IANS)