पुणे : केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने रविवार को कहा कि देश में चीनी का अतिरिक्त उत्पादन ‘बड़ी समस्या’ है. उन्होंने चीनी मिलों को सुझाव दिया कि उन्हें चीनी के उत्पादन की बजाय इथेनॉल बनाने पर ध्यान देना चाहिए. गडकरी ने यह भी कहा कि देश में पानी की कमी नहीं है, बल्कि जल प्रबंधन का अभाव है. गडकरी ने महाराष्ट्र स्टेट को-ऑपरेटिव बैंक लिमिटेड की ओर से आयोजित ‘शुगर कॉन्फ्रेंस 2020’ को संबोधित करते हुए यह बात कही. उन्होंने कहा, ‘वर्तमान में देश में चीनी का अतिरिक्त उत्पादन हो रहा है, इसलिए चीनी का उत्पादन बढ़ाने में कोई फायदा नहीं है. लेकिन इथेनॉल में भविष्य है, इसलिए चीनी मिलों को शुगर की बजाय इथेनॉल बनाने पर ध्यान देना चाहिए.’ Also Read - कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए नितिन गडकरी का ऐलान, कहा- राष्ट्रीय राजमार्गों पर नहीं लिया जाएगा टोल 

केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री गडकरी ने कहा कि केंद्र सरकार ने इथेनॉल पर एक पारदर्शी नीति पेश की है और पेट्रोलियम मंत्रालय उसे खरीदने के लिए तैयार है. कुल मिलाकर इथेनॉल का बाजार है. गडकरी ने कहा कि सरकार चीनी उद्योग के पुनरोद्धार के लिए सबकुछ कर रही है. Also Read - भाजपा की केंद्रीय चुनाव समिति की कल होगी बैठक, राज्यसभा के 16 उम्मीदवारों के नाम पर लग सकती है मुहर

Also Read - "बेहद आहत" महसूस करता हूं, जब कोई सावरकर की आलोचना करता है: गडकरी