Textile Hub and Leather City: ‘पूरब का मैनचेस्टर’ (Manchester of East) कहे जाने वाला कानपुर शहर यूपी सरकार (Government of Uttar Pradesh) के प्रयास से एक बार फिर विश्व के मानचित्र पर चमकता दिखाई देगा. इसे उभरता देख देश के बड़े -बड़े उद्योगपति कानपुर और उसके आसपास अपनी इंडस्ट्री लगाने में रूचि दिखा रहे हैं. इन उद्योपतियों ने टेक्सटाइल से लेकर मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर में निवेश किया है. इसके अलावा कानपुर में मेगा लेदर पार्क (Mega Leather Park) स्थापित किया जा रहा है.Also Read - NTPC: एनटीपीसी का पहली तिमाही में शुद्ध लाभ 27.35 प्रतिशत बढ़कर 3 हजार करोड़ रुपये के पार

मेगा लेदर क्लस्टर प्रोजेक्ट (Mega Leather Cluster Project) के तहत 235 एकड़ में बनने वाले इस मेगा लेदर पार्क में पचास हजार लोगों को नौकरी मिलेगी और 5850 करोड़ रुपये का निवेश आएगा. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के इस ड्रीम प्रोजेक्ट से कानपुर में फिर टेक्सटाइल हब (Textile hub in Kanpur) और लेदर सिटी (Leather City) के नाम से विख्यात होगा. Also Read - FPI: एफपीआई ने जुलाई में बिकवाली का रास्ता अपनाया, इक्विटी से 11,308 करोड़ रुपये निकाले

प्रदेश में गंगा के किनारे बसा औद्योगिक शहर कानपुर देश के प्रमुख शहरों में शामिल है. काफी दिनों से उपेक्षित इस शहर को योगी सरकार ने इस ऐतिहासिक शहर को फिर विश्व व्यापी पहचान देनी की ठानी. जिसके तहत उनके दिशा निर्देशन में कानपुर को टेक्सटाइल हब और लेदर सिटी के नाम से फिर विख्यात करने के लिए मेगा लेदर पार्क का प्रोजेक्ट तैयार हुआ. इसके साथ ही टेक्सटाइल और अन्य उद्योगों की स्थापना के लिए उद्योपतियों से कानपुर में अपनी इंडस्ट्री लगाने के लिए मिले प्रस्तावों का संज्ञान लेकर उद्योगपतियों से संपर्क किया गया. Also Read - Bike-Scooty Chor Gang: पुलिस ने पकड़ा बाइक-स्कूटी चोर का बड़ा गैंग, 41 वाहन बरामद

औद्योगिक विकास विभाग के अधिकारियों के अनुसार, मात्र तीन वर्षों में कानपुर शहर तथा कानपुर देहात में इंडस्ट्री लगाने को लेकर 23 प्रस्ताव मिले हैं. करीब चार हजार करोड़ रुपए के इन निवेश प्रस्तावों के जमीन पर उतरने से करीब सात हजार लोगों को रोजगार मिलेगा. निवेश संबंधी 23 प्रस्तावों में से 11 पर उद्योगपतियों ने अपनी यूनिट (फैक्ट्री) भी लगा ली है और उत्पादन शुरू करने की स्थिति में हैं.

औद्योगिक विकास विभाग से मिली जानकारी के अनुसार आरपी पॉलीपैक्स ने कानपुर में डेढ़ सौ करोड़ रुपए का निवेश कर टेक्सटाइल फैक्ट्री का निर्माण किया है. कानपुर प्लास्टिक लिमिटेड ने कानपुर देहात में दो सौ करोड़ रुपए की लागत से टेक्सटाइल फैक्ट्री बनाई है. इन कंपनियों में उत्पादन शुरू हो गया है. इसके अलावा स्पर्श इंडिया प्राइवेट लिमिटेड ने कानपुर देहात में 600 करोड़ रुपए का निवेश प्लास्टिक फैक्टी के निर्माण पर किया है. कानपुर देहात में ही रिमझिम इस्पात कंपनी 550 करोड़ रुपए का निवेश कर स्टील रोलिंग मिल का निर्माण करा रही है. बहुमंजिली इमारत में गैर प्रदूषणकारी उद्योगों की स्थापना के लिए सरकार द्वारा शुरू की गई योजना के तहत कानपुर में प्रदेश की फ्लैटेड फैक्ट्री लगाने पर भी कार्य शुरू हो गया है.

इसके अलावा कानपुर के लिए बेहद गेमचेंजर साबित होने वाले मेगा लेदर पार्क की स्थापना का कार्य भी तेजी से होने लगा है. यह लेदर पार्क कानपुर के रमईपुर गांव में बनेगा. इसकी स्थापना के लिए 235 एकड़ में भूमि अधिग्रहित हो चुकी है.

केंद्र सरकार के वाणिज्य मंत्रालय की मंजूरी इस पार्क की स्थापना के लिए मिल चुकी है. कानपुर स्थापित हो रहा यह देश में पहला लेदर पार्क होगा. कानपुर में मेगा लेदर क्लस्टर प्रोजेक्ट के तहत बनने वाले लेदर पार्क में 50,000 लोगों को प्रत्यक्ष रूप से रोजगार मिलेगा. जबकि डेढ़ लाख लोगों को परोक्ष रूप से रोजगार पाएंगे.

(With IANS Inputs)