धर्मशाला: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को कहा कि 2025 तक भारत को पांच हजार अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने का लक्ष्य हासिल करने में हर राज्य और जिले की महत्वपूर्ण भूमिका होगी. मोदी ने धर्मशाला दो दिन चलने वाले वैश्विक निवेशक सम्मेलन का उद्घाटन किया. इसका उद्देश्य हिमाचल प्रदेश में निवेश आकर्षित करना है. Also Read - World Youth Skills Day 2020: पीएम मोदी का देश का युवाओं को संदेश- 'स्किल, री-स्किल और अपस्किल'

प्रधानमंत्री ने कहा, ”देश के हर राज्य और हर जिले में काफी क्षमता है और सभी मिलकर देश को 5,000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने में अहम भूमिका निभाएंगे.” Also Read - UGC Guidelines: ममता बनर्जी ने कहा- फाइनल परीक्षा पर यूजीसी के दिशानिर्देशों का छात्र हितों पर होगा विपरीत असर 

पीएम ने कहा, केंद्रीय मंत्रिमंडल ने कल एक बड़ा फैसला लिया, जिसमें लगभग 4.50 लाख मध्यम वर्गीय परिवारों के घर का सपना था. इस फैसले से लगभग 4.50 लाख घर खरीदारों को फायदा होगा. Also Read - केजरीवाल ने पीएम मोदी को लिखा पत्र, कहा- केंद्रीय विश्वविद्यालयों के अंतिम वर्ष की परीक्षाएं करें रद्द 

पहले की तुलना में अब राज्य निवेश आकर्षित करने के लिए एक – दूसरे से प्रतिस्पर्धा कर रहे हैं. मोदी ने अपने 30 मिनट के भाषण में कहा, “हिमाचल में पर्यटन, फार्मा और अन्य क्षेत्रों में निवेश की काफी संभावनाएं हैं. ”

पीएम ने कहा कि कारोबार करने में सुगमता के मामले में भारत शीर्ष दस प्रदर्शन करने वाले देशों में है. वर्ष 2014 से 2019 के बीच भारत की कारोबारी सुगमता रैंकिंग में 79 अंक का सुधार हुआ है.

प्रधानमंत्री ने कहा कि आज के ग्लोबल सीनेरियो में, भारत अगर आज मजबूती से खड़ा है, तो इसलिए, क्योंकि हमने अपनी अर्थव्यवस्था के फंडामेंटल्स को कमजोर नहीं पड़ने दिया है. हमने मैक्रो-इकोनॉमिक में अपनी प्रतिबद्धता निरंतर बनाए रखी है और वित्‍तीय अनुशासन का कड़ाई से पालन किया है.