नई दिल्ली: प्रबंधन परामर्श कंपनी ई वाई को सार्वजनिक क्षेत्र की तीन साधारण बीमा कंपनियों के प्रस्तावित विलय के बारे में परामर्श देने के लिए शार्ट लिस्ट किया गया है. इस साल के बजट में सार्वजनिक क्षेत्र की तीन साधारण बीमा कंपनियों के विलय की घोषणा की गई थी. सरकार ने सार्वजनिक क्षेत्र की तीन साधारण बीमा कंपनियों नेशनल इंश्योरेंस कंपनी, ओरियंटल इंश्योरेंस कंपनी तथा यूनाइटेड इंडिया इंश्योरेंस कंपनी के विलय का प्रस्ताव किया है.

कार खरीदने वालों के लिए बेहतरीन मौका, Honda, Maruti कंपनियां दे रहीं ये चुनिंदा ऑफर

जून में आमंत्रित की थीं निविदा
सूत्रों ने कहा कि इसके लिए जून में बोली (निविदाएं) मंगाई गई थी. कंपनियों ने एकीकरण प्रक्रिया में सलाह देने को लेकर बतौर परामर्शदाता ई वाई को छांटाएकीकरण प्रक्रिया में सलाह देने को लेकर बतौर परामर्शदाता ई वाई को छांटा. तीनों कंपनियों के संयुक्त रूप से 31 मार्च, 2017 की स्थिति के अनुसार 41,461 करोड़ रुपये के प्रीमियम के साथ 200 से अधिक बीमा उत्पाद थे. इनकी बाजार हिस्सेदारी 35 प्रतिशत थी. इन कंपनियों का संयुक्त नेटवर्थ 9,243 करोड़ रुपये था जबकि कर्मचारियों की संख्या 44,000 है जो देश भर में स्थित 6,000 कार्यालयों में कार्यरत हैं. परामर्शदाता संगठनात्मक पुनर्गठन, कार्यबल को युक्तिसंगत बनाने, परिचालन संबंधी मुद्दों के प्रबंधन, नियामकीय और अनुपालन मुद्दों पर संभवत: परामर्श देगा. शुरुआती अनुमान के अनुसार तीन बीमा कंपनियों के विलय के बाद बनने वाली संयुक्त इकाई देश में सबसे बड़ी साधारण बीमा कंपनी होगी जिसका मूल्य 1.2 से 1.5 लाख करोड़ होगा. (इनपुट एजेंसी)

जरूरी जानकारी: यहां बैन हुए 200, 500 और 2000 रुपये के नोट