सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने सड़क परिवहन में नियमों में कुछ बदलाव और प्रस्तावों की घोषणा की है. इस नए बदलाव से वाहन मालिकों के साथ-साथ कैब यात्री भी प्रभावित होंगे. सड़क परिवहन मंत्रालय ने ओला (Ola), उबर (Uber) जैसी ऐप बेस्ड टैक्सी एग्रीगेटर्स के लिए नई गाइडलाइंस Motor Vehicle Aggregator Guidelines 2020 जारी कर दी है. इस गाइडलाइंस के तहत कोई भी टैक्सी एग्रीगेटर अब अपने ग्रहाकों से मनमाना किराया नहीं वसूल पाएगा.Also Read - फ्री में मिल रहा है ओला इलेक्ट्रिक स्कूटर, पूरा करना होगा भाविश अग्रवाल का दिया हुआ ये चैलेंज

सड़क एवं परिवहन मंत्रालय ने नई गाइडलाइंस में तय किया है कि पीक आवर में भी ओला, उबर का किराया बेस फेयर से डेढ़ गुना से ज्यादा नहीं हो सकता है. सरकार की नई गाइडलाइंस के बाद ओला, उबर जैसे एग्रीगेटर्स के लिए लाइसेंस जरूरी हो गया है. अब ड्राइवर को किराए का 80 फीसदी पैसा मिलेगा. इसके बाद एग्रीगेटर 20 फीसदी से ज्यादा चार्ज नहीं कर सकेगा. इसमें बेस किराया 3 किलोमीटर का होगा. Also Read - Ola,Uber की मनमर्जी पर लगेगा ब्रेक, CCPA ने जारी किया नोटिस, 15 दिन में जवाब दो

नए नियमों में यह बात भी कही गई है कि एग्रीगेटर बेस किराए पर 50 फीसदी तक छूट दे सकता है. एग्रीगेटर सिर्फ 1.5 गुना सरचार्ज वसूल सकता है. ड्राइवर ट्रिप रद्द करता है तो किराए का 10 फीसदी देना होगा. Also Read - अब Uber से भी चलना हुआ महंगा, कंपनी ने किराया बढ़ाने का एलान किया, बताई ये वजह

गाड़ियों के लिए नॉमिनी जरूरी

परिवहन मंत्रालय ने केंद्रीय मोटर वाहन नियम, 1989 में संशोधन का प्रस्ताव रखा है. नए नियम के तहत वाहन का मालिक रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट में किसी एक व्यक्ति को नामित (Nominee) कर सकेगा. गाड़ी के रजिस्ट्रेशन के समय ही नॉमिनेशन सुविधा दिए जाने का प्रस्ताव है. इससे अगर गाड़ी के मालिक की मृत्यु हो जाती है तो वाहन को उसके नॉमिनी को ट्रांसफर करने में मदद मिलेगी.

विंटेज गाड़ियों का रजिस्ट्रेशन – मंत्रालय ने विंटेज मोटर वाहनों से संबंधित Central Motor Vehicle Rules (CMVR) 1989 के तहत सुझाव मांगे हैं. सरकारी प्रेस रिलीज में कहा गया है कि अभी विंटेज गाडियों के रजिस्ट्रेशन को लेकर कोई नियम नहीं है. लिहाजा एक फॉर्मल रजिस्ट्रेशन प्रॉसेस शुरू करने की जरूरत है.

बता दें, कोई भी मोटरसाइकिल या कार जो 50 साल या इससे ज्यादा पुरानी है तो उसे विंटेज मोटर वेहिकल कहने का प्रस्ताव है.