मुंबई: भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के गवर्नर के रूप में उर्जित पटेल ने कार्यभार संभाल लिया है। यह जानकारी सोमवार को एक आधिकारिक बयान में दी गई है। आरबीआई की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि जनवरी 2013 से डिप्टी गवर्नर के रूप में सेवाएं दे रहे उर्जित आर. पटेल ने भारतीय रिजर्व बैंक के 24वें गर्वनर के रूप में कार्यभार संभाल लिया है। उनका कार्यकाल चार सितंबर, 2016 से प्रभावी हो गया है। Also Read - मोरेटोरियम पीरियड में 'ब्याज पर ब्याज' से छूट को जल्द मिलेगी कैबिनेट की मंजूरी, जानिए कैसे मिलेगा फायदा?

Also Read - Loan Moratorium Update: लोन मोरेटोरियम मामले में सरकार ने SC में दाखिल किया नया हलफनामा, जानें क्या है ताजा अपडेट

यह भी पढ़े: जानिए कौन है RBI के नए गवर्नर उर्जित पटेल Also Read - रेपो रेट में कोई बदलाव नहीं, इन महीने से बढ़ेंगी आर्थिक गतिविधियां- आरबीआई गवर्नर

पटेल का कार्यकाल तीन साल का होगा। उन्होंने रविवार को रघुराम राजन का गवर्नर का तीन साल का कार्यकाल समाप्त होने पर उनके उत्तराधिकारी के रूप में यह पदभार संभाला है। राजन ने जून माह में ही अपने सहकर्मियों को एक अभूतपूर्व पत्र लिखकर दूसरे कार्यकाल के लिए अनिच्छा जाहिर कर दी थी, जिसके बाद से ही अटकलें लगाई जा रही थीं कि आखिर राजन का उत्तराधिकारी कौन होगा।

52 वर्षीय उर्जित पटेल जानेमाने अर्थशास्त्री, बैंकर और सलाहकार हैं।  रघुराम राजन के गवर्नर होने के दौरान वह रिजर्व बैंक में उपगवर्नर हैं और मुख्यतया मौद्रिक नीति का जिम्मा संभालते थे। पटेल ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय से एम. फिल हैं और उन्होंने येल युनिवर्सिटी से पीएचडी किया है। राजन और पटेल वाशिंगटन में अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) में साथ काम कर चुके हैं। पटेल राजन के करीबी माने जाते हैं। हालांकि पटेल राजन से पहले रिजर्व बैंक में आ गए थे। रिजर्व बैंक में आने के बाद राजन ने जब 2013 में मौद्रिक नीति के लिए समिति गठित की थी, तब उन्होंने इस समिति का अध्यक्ष उर्जित पटेल को बनाया था।