नई दिल्ली: लागत बढ़ने तथा अन्य आर्थिक कारणों से विभिन्न कंपनियों के वाहन एक अप्रैल से महंगे हो जाएंगे. इनमें महिंद्रा एंड महिंद्रा, टाटा मोटर्स, टोयोटा, निसान इंडिया और रेनो जैसी कंपनियां शामिल हैं. टाटा मोटर्स ने पिछले सप्ताह अपने वाहनों के दाम एक अप्रैल से 25 हजार रुपए तक बढ़ाने की घोषणा की थी. कंपनी ने लागत खर्च बढ़ने तथा बाह्य आर्थिक परिस्थितियों को कीमतें बढ़ाने का कारण बताया था. कंपनी अभी नैनो से लेकर प्रीमियम एसयूवी हेक्सा तक बेचती है जिनकी कीमत 2.36 लाख रुपए से 18.37 लाख रुपए तक है. टाटा मोटर्स के अध्यक्ष (यात्री वाहन कारोबारी इकाई) मयंक पारीक ने कहा था, ”बाजार की बदलती परिस्थितियां, लागत का बढ़ता खर्च और विभिन्न बाहरी आर्थिक कारकों ने हमें कीमत बढ़ाने पर विचार करने को मजबूर किया है.”

महिंद्रा एंड महिंद्रा ने भी अपने वाहनों की कीमतें अप्रैल से 5 हजार रुपए से 73 हजार रुपए तक बढ़ाने की पिछले सप्ताह घोषणा की थी. कंपनी ने कहा था कि वाहनों की कीमतों में अप्रैल से 0.5 प्रतिशत से 2.7 प्रतिशत की वृद्धि की जाएगी. कंपनी के अध्यक्ष (वाहन क्षेत्र) राजन वढेरा ने बयान में कहा था, ”इस साल जिंस के दाम में रिकार्ड वृद्धि देखी गई. इसके अलावा एक अप्रैल से नियामकीय जरूरतों को पूरा करना है. इससे लागत बढ़ेगी. हमने अपनी लागत को कम करने के लिए प्रयास किए हैं, लेकिन कीमत वृद्धि को रोकना संभव नहीं रह गया है.

निसान इंडिया डैटसन गो और गो प्लस के दाम एक अप्रैल से चार प्रतिशत तक बढ़ाने वाली है. फ्रांस की कार कंपनी रेनो अप्रैल से क्विड के दाम तीन प्रतिशत बढ़ाएगी. इनके अलावा टोयोटा किर्लोस्कर मोटर ने भी नए वित्त वर्ष से कुछ मॉडलों के दाम बढ़ाने की घोषणा की है. हालांकि, कंपनी ने अभी यह नहीं बताया है कि वह किन मॉडलों के दाम बढ़ाने जा रही है.