नई दिल्ली. विशाल सिक्का ने इंफोसिस के एमडी और सीईओ पद से इस्तीफा दे दिया है. उनकी नई नियुक्ति एग्जिक्युटिव वाइस चेयरमैन के पद पर की गई है. यूपी प्रवीन राव को अंतरिम एमडी और सीईओ बनाया गया है. विशाल सिक्का का इस्तीफा तत्काल प्रभाव से स्वीकार कर लिया गया है. इस खबर के बाद कंपनी के शेयर में गिरावट दर्ज की गई है. Also Read - प्रमुख सॉफ्टवेयर कंपनी इंफोसिस के तीन कर्मचारी धोखाधड़ी के आरोप में गिरफ्तार

भारत की दूसरी सबसे बड़ी सूचना प्रौद्योगिकी कंपनी इंफोसिस ने जून 2014 में सिक्का को अपना अगला मुख्य कार्यकारी अधिकारी और प्रबंध निदेशक (सीईओ और एमडी) नियुक्त किया था. सिक्का इससे पहले सॉफ्टवेयर और उससे जुड़ी सेवाएं देने वाली जर्मनी की कंपनी एसएपी एजी के कार्यकारी बोर्ड में थे. यह पहली बार था जब इस पद के लिए इंफोसिस ने अपने किसी संस्थापक को नहीं चुना था. Also Read - इंफोसिस के सह-संस्थापक नारायण मूर्ति के दामाद ऋषि सुनक बने ब्रिटेन के नये वित्त मंत्री

भारत की दूसरी सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर सेवा निर्यातक कंपनी इंफोसिस में इन दिनों आंतरिक कलह थमने का नाम नहीं ले रही थी. कंपनी के सीईओ विशाल सिक्का के कामकाज को लेकर कई कर्मचारियों ने बगावती तेवर अपने रखे थे. लगभग 1800 से ज्यादा ई-मेल इनफोसिस के निदेशक मंडल को मिले हैं, जिनमें कर्मचारियों ने अपनी नाखुशी जाहिर की थी. Also Read - WIPRO के CEO अबिदअली जेड नीमचवाला ने दिया इस्तीफा, बताई ये चौंकाने वाली वजह

इस विवाद में इंफोसिस के संस्थापक सदस्य रहे एन नारायणमूर्ति भी कूद पड़े थे. नारायणमूर्ति ने कहा था कि उन्हें व्यक्तिगत रूप से विशाल सिक्का से कोई परेशानी नहीं है, बल्कि कंपनी का गवर्नेंस बोर्ड जिस तरह काम कर रहा है, उससे वे निराश हैं. विशाल शिक्का के कामकाज को लेकर कंपनी के संस्थापकों ने शिकायत दर्ज कराई थी. इंफोसिस के संस्थापक एन नारायणमूर्ति, क्रिस गोपालकृष्णन और नंदन निलेकणी ने निदेशक मंडल से की गई शिकायत के मुताबिक कंपनी के भीतर कॉरपोरेट गवर्नेंस के मानकों का पालन नहीं हो रहा था.

एनआर नारायणमूर्ति ने भी कंपनी के गवर्नेंस में हो रही गड़बड़ी को लेकर चिंता जताई है. उनका कहना है कि मनमाने ढंग से सुविधाएं दी गई. इससे अन्य कर्मचारियों का मनोबल पर बुरा असर पड़ा.

कंपनी के शेयर गिरे

इंफोसिस के प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सीईओ) विशाल सिक्का के इस्तीफे के बाद कंपनी का शेयर आज शुरुआती कारोबार में 6 फीसदी से अधिक लुढ़क गया. कंपनी ने बंबई शेयर बाजार को दी सूचना में कहा, ‘इंफोसिस के निदेशक मंडल ने आज हुई बैठक में डा. विशाल सिक्का का प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यपालक अधिकारी पद से इस्तीफा तत्काल प्रभाव से स्वीकार कर लिया.’ इस घोषणा से कंपनी का शेयर गुरुवार के बंद भाव के मुकाबले 6.62 प्रतिशत की गिरावट के साथ 958.00 पर आ गया.

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज में यही स्थिति रही. कंपनी का शेयर 1,017.90 पर खुला और कल के बंद भाव के मुकाबले 6.71 प्रतिशत की गिरावट के साथ 952.30 पर पहुंच गया. सिक्का को इंफोसिस का कार्यकारी उपाध्यक्ष नियुक्त किया गया है। इंफोसिस के मुख्य परिचालन अधिकारी यू बी प्रवीण को अंतरिम प्रबंध निदेशक और सीईओ बनाया गया है. कंपनी ने कहा कि निदेशक मंडल ने नये प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यपालक अधिकारी की नियुक्ति के लिये प्रक्रिया शुरू कर दी है.