WhatsApp New Policy: व्हाट्सएप की नई गोपनीयता नीति का भारत में विरोध जताए जाने के बीच फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग ने इसका समर्थन किया है. उन्होंने कहा है कि इस अपडेट में अपने परिवार या दोस्तों के साथ किसी के भी मैसेज की प्राइवेसी को नहीं छेड़ा जाएगा.Also Read - Facebook ने कंपनी को दिया नया नाम, लेकिन Facebook App, Instagram, Whatsapp में नहीं होगा बदलाव

बता दें, व्हाट्सएप की नई प्राइवेसी पॉलिसी पर 15 मई तक रोक लगा दी गई है, जिसका मकसद अपनी पेरेंट कंपनी फेसबुक के साथ कमर्शियल यूजर्स के डेटा को साझा करना था. भारत सरकार ने भी इस नीति को वापस लेने के लिए व्हाट्सएप के सीईओ विल कैथार्क को पत्र लिखा था. Also Read - Facebook New Name: Facebook ने बदला अपना नाम, अब से Meta कहलाएगी मार्क जुकरबर्ग की कंपनी

बुधवार को विश्लेषकों के साथ एक तिमाही अर्निग्स कॉल में जुकरबर्ग ने कहा कि कंपनी ने डेट को थोड़ा पीछे कर लिया है, ताकि लोग इस अपडेट के बारे में पूरी तरह से समझ सकें. Also Read - Facebook बंद होने के कुछ ही घंटों में मार्क जुकरबर्ग को 6 अरब डॉलर से ज्यादा का नुकसान

जुकरबर्ग ने कहा, “ये सारे मैसेजेस एंड-टू-एंड एन्क्रिप्टेड होते हैं यानि कि आप क्या कहते हैं, उसे न ही हम देख सकते हैं और न ही सुन सकते हैं और न ही हम कभी ऐसा कर पाएंगे और ऐसा तब तक होगा जब तक कि आपने जिस इंसान को मैसेज भेजा है, उसने खुद न शेयर करना चाहा हो और अगर कोई बिजनेस ऐसा करना चाहता है तो ऐसे मैसेजेस को केवल हमारे इंफ्रास्ट्रक्च र द्वारा ही होस्ट किया जाएगा.”

व्हाट्सएप बिजनेस अकाउंट पर हर दिन 17.5 करोड़ से अधिक लोग मैसेज करते हैं.

जुकरबर्ग ने आगे कहा, “हम ऐसे बिजनेस टूल्स का विकास कर रहे हैं, जिसमें हमारे सुरक्षित होस्टिंग इंफ्रास्ट्रक्च र का उपयोग कर बिजनेस स्टोर अपने व्हाट्सएप चैट को मैनेज कर पाएंगे और ऐसा उनकी मर्जी से ही होगा और इन वैकल्पिक अनुभवों को प्रदर्शित करने के लिए सेवा के मद्देनजर व्हाट्सएप की प्राइवेसी पॉलिसी को अपडेट करने की हमारी प्रक्रिया जारी है.”

(IANS)