Will gold rate decrease in coming days 2020? बीते शुक्रवार से सोने के भाव (Sone Ka Bhav) में लगातार गिरावट जारी है. इस दौरान सोना करीब 4000 हजार रुपये सस्ता हुआ है. बीते सप्ताह सोना 56 हजार रुपये प्रति 10 ग्राम से ऊपर चल रहा था जो आज 52 हजार रुपये के आसपास है. सोने की कीमत में इस गिरावट को ऐतिहासिक बताया जा रहा है. Also Read - Gold Prices Today 20 September 2020: एक महीने में आई सोने के दाम में भारी कमी, जानें किस कैरेट गोल्ड का आपके बाजार में क्या है भाव

इंडिया बुलियन एंड ज्वेलर्स एसोसिएशन के मुताबिक शुक्रवार यानी 7 अगस्त को 24 कैरट 10 ग्राम सोना 56254 रुपये के भाव तक पहुंच गया था. इसके बाद से इसमें लगातार गिरावट का रुख है. एसोसिएशन के मुताबिक आज सुबह में 24 कैरट सोना 52731 रुपये प्रति 10 ग्राम के भाव पर खुला है. Also Read - Gold/Silver Price Today 19 September: सोने-चांदी की कीमत में एक हफ्ते में आई तेजी, जानिये आपके शहर में क्या है रेट, खरीदने का है सही समय?

दूसरी तरफ चांदी के भाव में करीब 10 हजार रुपये प्रति किलो की गिरावट है. पिछले शुक्रवार को चांदी खुदरा बाजार में 76 हजार रुपये प्रति किलो तक पहुंच गया था जो आज यानी गुरुवार को 66 हजार रुपये किलो के स्तर पर है. Also Read - Gold Prices Today 19 Sepetember 2020: सोने के भाव में आई तेजी, प्रति दस ग्राम के लिए देने होंगे इतने रुपये, जानें नया भाव

जानकारों की मानें को सोना-चांदी के भाव में ये गिरावट अंतरराष्ट्रीय बाजार खासकर अमेरिकी बाजार में गिरावट की वजह से है. कमोडिटी मार्केट के विशेषज्ञों के मुताबिक दुनिया में जब-जब संकट आता है तब-तब निवेशक सोने में भरोसा जताते हैं. कुछ ऐसा ही 1970 के दशक में आई मंदी के समय देखा गया था. इसी तरह 2008 में आई वैश्विक मंदी के वक्त भी ऐसा ही दिखा था.

80 के दशक में सोने के भाव में सात गुना से अधिक बढ़ गया था लेकिन बाद में इसमें भारी गिरावट देखी गई थी. 2008 के वैश्विक संकट के बाद 2011 में अमेरिकी बाजार में सोना 1900 डॉलर को पार कर गया था. लेकिन बाद में इसमें फिर भारी गिरावट दर्ज की गई थी.

गिरेगा भाव (Is there any chance of reducing gold rate?)

ऐसे में विशेषज्ञ यह भी कह रहे हैं कि इस मौजूदा कोरोना संकट के बाद कमोडिटी मार्केट एक बार फिर इतिहास दोहराएगा. सोने की कीमत ताजा में गिरावट इसी की ओर संकेत कर रहे हैं.

दरअसल, रूस ने दावा किया है कि उसने सफलता पूर्वक कोरोना वायरस का वैक्सीन बना लिया है. रूस में अब मानव को इसका डोज दिया जाने लगा है. दूसरी तरफ भारत सहित ब्रिटेन और अमेरिका में कोरोना वायरस वैक्सीन को डेवलप करने का काम अंतिम चरण है. इन्हीं खबरों का अमेरिकी बाजार पर सकारात्मक असर हुआ है. इस कारण वहां निवेशक सोने से पैसा निकालकर एक बार फिर शेयर मार्केट में लगाने लगे हैं.