नई दिल्लीः येस बैंक पर भारतीय रिजर्व बैंक की सख्ती के बाद शुक्रवार को येस बैंक के शेयर में काफी गिरवाट दर्ज की गई. दोपहर 12 बजे से पहले एक समय येस बैंक के शेयर में 85 प्रतिशत तक की गिरावट दर्ज की गई. हालांकि बाद में इसके शेयर में कुछ सुधार भी देखा गया. Also Read - कोरोना महामारी के कारण SBI Clerk की मुख्य परीक्षा हुई स्थगित

गौरतलब है कि केंद्रीय बैंक ने 5 मार्च को येस बैंक में निकासी पर कड़े प्रतिबंध लगाए. आरबीआई ने 50 हजार रुपये की निकासी सीमा तय की है. आपको बता दें कि आरबीआई का यह प्रतिबंध हालांकि अभी सिर्फ एक महीने के लिए ही है. येस बैंक कस्टमर्स में डर का आलम यह है कि देर रात तक एटीएम में लंबी कतारे देखने को मिलीं. Also Read - Coronavirus: EMI भुगतान के SMS से कर्जदारों में तीन महीने की मोहलत को लेकर भ्रम

येस बैंक पर रिजर्व बैंक के रोक लगाने और निदेशक मंडल को भंग करने के बाद शुक्रवार को येस बैंक का शेयर 25 प्रतिशत गिरकर खुला और सुबह के कारोबार में यह 85 प्रतिशत तक नीचे चला गया. बीएसई पर बैंक का शेयर 24.96 प्रतिशत गिरकर 27.65 रुपये प्रति शेयर पर खुला. इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज पर बैंक का शेयर शुरुआत में 20 प्रतिशत गिरकर 29.45 रुपये पर पहुंच गया. Also Read - SBI के 2,56,000 कर्मचारी 2 दिन की सैलरी से PM CARES Fund में 100 करोड़ रुपए दान देंगे

रिजर्व बैंक ने बृहस्पतिवार को सरकार से मशविरा करने के बाद येस बैंक पर रोक लगायी और उसके निदेशक मंडल को भी भंग कर दिया है. वहीं बैंक के ग्राहकों पर भी 50,000 रुपये मासिक तक निकासी करने की रोक लगायी है. येस बैंक किसी भी तरह का नया ऋण वितरण या निवेश भी नहीं कर सकेगा.

केंद्रीय बैंक ने भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) के पूर्व मुख्य वित्त अधिकारी (सीएफओ) प्रशांत कुमार को येस बैंक का प्रशासक नियुक्त किया गया है. वहीं एसबीआई बोर्ड ने नकदी संकट से जूझ रहे येस बैंक में निवेश के लिए ‘सैद्धांतिक’ स्वीकृति दे दी है.

बृहस्पतिवार को देर शाम, एसबीआई बोर्ड ने शेयर बाजारों को सूचित किया, ‘‘येस बैंक से संबंधित मामले पर बृहस्पतिवार को बैंक के केंद्रीय बोर्ड की बैठक में चर्चा की गई और बोर्ड ने बैंक में निवेश अवसर तलाशने के लिए सैद्धांतिक रूप से मंजूरी दे दी है.’’