नई दिल्ली : आयकर विभाग ने स्रोत पर टैक्स की कटौती यानि टीडीएस काटने वाली कंपनियों को चेतावनी दी है कि जनवरी – मार्च तिमाही में काटे गए टीडीएस की जानकारी 31 मई तक फाइल कर दें. जो कंपनी निश्चित तिथि तक टीडीएस की जानकारी आयकर विभाग को उपलब्ध नहीं कराएगी, उस पर दो सौ रुपए प्रतिदिन की देरी के हिसाब से जुर्माना लगाया जाएगा. Also Read - GSEB SSC Result 2020: गुजरात बोर्ड जल्द जारी कर सकता है दसवीं का रिजल्ट, ऐसे कर सकतें हैं चेक  

केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड ( सीबीडीटी ) ने इस संबंध में शुक्रवार के समाचार – पत्रों में विज्ञापन भी जारी किया है. इस विज्ञापन में कहा गया है कि जनवरी – मार्च तिमाही का टीडीएस फाइल करने की अंतिम तिथि 31 मई है. टीडीएस फाइल करने में देरी होने पर प्रतिदिन दो सौ रुपए का जुर्माना लगाया जाएगा. सीबीडीटी के विज्ञापन में कहा गया है कि जिन कटौती कर्ताओं यानी नियोक्ता ने कर की कटौती की है और निर्धारित तिथि तक उसे जमा नहीं किया है. वो तुरंत टीडीएस जमा करें. और इसके लिए उन्हें खुद को आयकर विभाग की आधिकारिक वेबसाइट https://www.tdscpc.gov.in पर पंजीकृत करना होगा. Also Read - Air India Flight Baggage Policy: एयर इंडिया ने जारी की गाइडलाइन, जानें कितना सामान लेकर कर सकते हैं यात्रा

विभाग ने नियोक्ता कंपनियों को TIN ( कर कटौती एवं संग्रह खाता संख्या ) सही भरने और टीडीएस का भुगतान करने वालों का पैन ( स्थायी खाता संख्या ) संख्या सही भरने की सलाह दी है. ताकि वे आसानी से टैक्स क्रेडिट प्राप्त कर सकें. टीडीएस की जानकारी में पैन और टीएएन संख्या नहीं होने पर जुर्माना लग सकता है. आयकर विभाग के नियमों के मुताबिक, कटौतीकर्ता ( नियोक्ता ) कर्मचारी के वेतन से टीडीएस की कटौती करता है और उसे हर तिमाही या तीन महीने का विवरण आयकर विभाग के साथ साझा करना होता है.
( इनपुट एजेंसी ) Also Read - Vinayak Damodar Savarkar Jayanti 2020: पीएम मोदी ने 'मन की बात' में वीर सावरकर का पेश किया उदाहरण