नई दिल्ली: सोमवार को केंद्र सरकार ने बड़ा ऐलान करते हुए सवर्णों के लिए 10 फीसदी आरक्षण की घोषणा की है. इसे लागू करने के लिए अब देश के सभी उच्च शिक्षा संस्थानों में करीब 10 लाख से अधिक अतिरिक्त सीटें बनाए जाने की संभावना है.

केंद्र द्वारा किए गए आकलन में यह बात कही गई है कि इस कोटा को पूरा करने के लिए IIT, IIM, केंद्रीय विश्वविद्यालयों, राज्य सरकार के संस्थानों और निजी विश्वविद्यालयों को छात्रों के भर्ती में बढ़ोतरी करनी होगी. वर्तमान आंकड़ों की मानें तो उच्च शिक्षण संस्थानों में सलाना एक करोड़ छात्र दाखिला लेते हैं. सरकारी सूत्रों के अनुसार नये बदलावों के बाद 10 लाख अतिरिक्त सीटों की जरूरत होगी. इस तरह के कोटा को लागू करने के तौर-तरीकों पर काम किया जाना बाकी है.

BPSC 30th Judicial Services Prelims Exam Results: पीटी का रिजल्ट जारी, 1100 पास

इस कोटा में देश की 180 से ज्यादा उच्च शैक्षणिक संस्थान शामिल होंगे. इसमें IIM, 23 IITs, AIIMS, NITs, IIITs जैसेे 91 राष्ट्रीय महत्व के संस्थान, 8 रिसर्च आधारित संस्थान जैसे कि IISc बेंगलुरु और IISERs, 41 केंद्रीय विश्वविद्यालय और HRD मंत्रालय के तहत आने वाले संस्थान भी शामिल होंगे. सभी डीम्ड यूनिवर्सिटी और UGC के तहत आने वाली प्राइवेट यूनिवर्सिटीज में भी कोटा लागू होगा.

भारत में उच्च शिक्षा पर हुए सर्वे के अनुसार देश में 903 विश्वविद्यालय, 39,050 कॉलेज और 10,011 स्टैंडअलोन इंस्टीट्यूट्स हैं. सर्वे की रिपोर्ट में यह अंदाजा लगाया गया है कि इन संस्थानों में करीब 36 मिलियन उम्मीदवार दाखिला लेते हैं, जिसमें SC श्रेणी के 14.4%, ST श्रेणी के 5.2%, OBC के 35%, 5% मुस्लिम और 2.2% अन्य अल्पसंख्य समुदाय के छात्र दाखिला लेते हैं.

करियर संबंधी खबरों के लिए पढ़ते रहें India.com