प्रयागराजः शिक्षक पात्रता परीक्षा (टीईटी) का पेपर आउट कराने और मूल परीक्षार्थी की जगह दूसरे परीक्षार्थी को बैठाने वाले अलग अलग गिरोह के 18 सदस्यों को बुधवार को यहां गिरफ्तार किया गया. जहां एसटीएफ की जिला इकाई ने एक स्थान पर सात लोगों और दूसरे स्थान पर एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया, वहीं पुलिस की अपराध शाखा ने एक ही स्थान पर 10 लोगों को गिरफ्तार किया. एसटीएफ के अपर पुलिस अधीक्षक नीरज पांडेय ने बताया कि मुखबिर से मिली सूचना के आधार पर एसटीएफ की टीम, सिविल लाइंस थाने के पुलिसकर्मियों के साथ प्रधान डाकघर के पास पहुंची जहां सात संदिग्ध लोगों को बातचीत करते देखा गया.

पांडेय ने बताया कि पुलिस बल द्वारा घेराबंदी कर इन लोगों को गिरफ्तार कर इनके पास से 180 मोबाइल फोन, 220 सिम कार्ड, एक ब्लूटूथ स्पीकर उपकरण, एक स्कैनर, तीन आधार कार्ड, एक वोटर आईडी कार्ड, 4 लाख 11 हजार रुपये, एक इनोव क्रिस्टा एसयूवी, एक टाटा मांजा कार बरामद की गई. उन्होंने बताया कि पूछताछ करने पर गिरोह के सरगना संजय उर्फ रमेश ने बताया कि टीईटी की दूसरी पाली में होने वाली परीक्षा का पेपर आउट कराने और उसे साल्वर से हल कराकर उत्तर कुंजी विभिन्न परीक्षार्थियों को उपलब्ध कराने के उद्देश्य से वे एकत्रित हुए थे.

CSBC Bihar Police Constable Exam: कॉन्स्टेबल भर्ती परीक्षा का एडमिट कार्ड हुआ जारी, यहां देखें लिस्ट में अपना नाम

गिरफ्तार किए गए अन्य अभियुक्तों में पंचमलाल आश्रम उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के प्रबंधक चंद्रमा सिंह यादव, अमित यादव, अश्वनी श्रीवास्तव, राजेश कुमार मिश्रा, विनोद कुमार साह और राजू उर्फ राजेंद्र कुमार यादव शामिल हैं. पांडेय ने बताया कि आज की परीक्षा के लिए धूमनगंज थाना अंतर्गत पंचमलाल आश्रम उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के प्रबंधक चंद्रमा सिंह यादव से पेपर आउट कराने का षड़यंत्र हुआ था.

एसटीएफ ने इसी परीक्षा में मूल परीक्षार्थी के स्थान पर दूसरे परीक्षार्थी से परीक्षा दिलाने वाले गिरोह के एक सदस्य को धूमनगंज थाना अंतर्गत झलवा स्थित मार्डन इंटर कालेज में परीक्षा देते समय गिरफ्तार किया. गिरफ्तार अभियुक्त की पहचान कौशांबी निवासी धर्मराज भारतीय के रूप में हुई है.

SSC CHSL 2020: ये है आवेदन की आखिरी तारीख, ऐसे करें रजिस्ट्रेशन

इधर, पुलिस की अपराध शाखा की टीम ने उच्च न्यायालय पानी की टंकी के पास साल्वर गिरोह के सरगना समेत 10 लोगों को गिरफ्तार किया जिनकी पहचान अंकित पांडेय (मुख्य सरगना), धर्मेंद्र उर्फ डीके, सरोज कुमार, अंकुश कुमार, अरविंद कुमार, टुनटुन दास, अशोक कुमार, अशीष कुमार, ऋषि मुनि मिस्त्री और कृष्ण मोहन गुप्ता के रूप में हुई है. थाना कैंट प्रभारी संजय कुमार द्विवेदी ने बताया कि गिरफ्तार लोगों के पास से 12 मोबाइल फोन, 30,000 रुपये, 32 प्रवेश पत्र बरामद किए गए. ये लोग मूल परीक्षार्थी के स्थान पर परीक्षा में बैठने जा रहे थे.