नई दिल्ली: केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने सोमवार को कहा कि जवाहर नवोदय विद्यालयों (जेएनवी) में अगले सत्र में प्रवेश के लिए 5,000 सीटों की बढ़ोतरी को मंजूरी प्रदान की गई है. सरकार की ओर से जारी एक बयान के अनुसार, वर्तमान में जेएनवी में विद्यार्थियों के लिए कुल 46,600 सीटें हैं और नई सीटें जुड़ने के बाद अकादमिक सत्र 2019-20 में 51,000 से अधिक सीटें बच्चों के प्रवेश के लिए उपलब्ध होंगी. बयान में कहा गया कि पिछले साल 9,000 सीटें बढ़ाई गई थीं और अगल चार साल में सरकार 32,000 और सीटें बढ़ा सकती हैं.

जावड़ेकर ने कहा, यह सही दिशा में उठाया गया कदम है. यह ग्रामीण बच्चों के लिए गुणवत्तापूर्ण शिक्षा का अब तक का सबसे बड़ा विस्तार है. जेएनवी के इस अभूतपूर्व विस्तार से ग्रामीण क्षेत्र के मेधावी छात्रों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के और अधिक अवसर मिलेंगे. नवोदय विद्यालयों में प्रवेश परीक्षा के माध्यम से कक्षा छह में छात्रों का दाखिला होता है. वर्ष 2001 में प्रवेश परीक्षा में 5.50 लाख बच्चे शामिल हुए थे. विगत वर्षो में आवेदकों की संख्या में काफी वृद्धि हुई और वर्ष 2019 की प्रवेश परीक्षा के लिए 31.10 लाख छात्र-छात्राओं ने पंजीकृत करवाया है.

अगस्त 2018 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता वाली आर्थिक मामलों की कैबिनेट समिति (CCEA) ने 13 नये केंद्रीय विद्यालयों (KVs) और एक जवाहर नवोदय विद्यालय (JNV) को मंजूरी दी थी. इन 13 KVs को उत्तर प्रदेश, बिहार, महाराष्ट्र, कर्नाटक, मणिपुर, तेलंगाना और झारखंड में खोलेा जाएगा. उत्तर प्रदेश के बांदा, मिर्जापुर, भड़ोही, CISF सुरजपुर और बावली जिला में केवीएस खुलेंगे. वहीं बिहार के नवादा और देवकुंड में केंद्रीय विद्यालय खोले जाएंगे. बता दें कि केंद्रीय विद्यालय में फिलहाल कुल 12 लाख छात्र पढ़ाई कर रहे हैं. वहीं JNVs में छात्रों को नि:शुल्क मॉर्डन शिक्षा मिलती है. देशभर में करीब 2.50 लाख छात्र नवोदय विद्यालय में पढ़ाई कर रहे हैं.