Architect Admission 2020: 12वीं कक्षा में उत्तीर्ण हो चुके छात्र अब पहले के मुकाबले अधिक सरलता से आर्किटेक्ट जैसे स्नातक पाठ्यक्रमों में दाखिला ले सकेंगे. केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय ने आर्किटेक्ट के स्नातक पाठ्यक्रम में दाखिले हेतु नियमों में छूट देने का निर्णय लिया है. हालांकि यह विशेष सुविधा केवल इसी वर्ष के लिए मान्य होगी. केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा, “कोरोना वैश्विक महामारी के कारण सीबीएसई बोर्ड समेत कई अन्य बोर्डो को 12वीं की कई परीक्षाएं रद्द करनी पड़ी है. इसी को देखते हुए शिक्षा मंत्रालय के परामर्श पर काउंसिल ऑफ आर्किटेक्ट ने आर्किटेक्ट संबंधी कोर्स में दाखिला लेने हेतु एलिजिबिलिटी में रियायत देने का निर्णय लिया है.” Also Read - New Education Policy 2020: केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने कहा- नई शिक्षा नीति नौकरियों और एंटरप्रेन्योर को क्रिएट करने में करेगा मदद

शिक्षा मंत्रालय की इस पहल के बाद अब आर्किटेक्ट में ग्रेजुएशन करने की इच्छा रखने वाले छात्रों को बिना किसी दिक्कत के प्रवेश परीक्षाओं में शामिल होने का मौका मिल सकता है. प्रवेश परीक्षा के लिए निर्धारित अंक प्रतिशत की शर्त हटाई जा सकती है. गौरतलब है कि कोविड-19 के बढ़ते मामलों को देखते हुए सीबीएसई और सीआईएससीई सहित प्रमुख स्कूल बोर्डो ने 10वीं और 12वीं कक्षा की बीच हुई परीक्षाओं को रद्द कर दिया था. छात्रों और शिक्षकों की सुरक्षा के मद्देनजर यह फैसला किया गया. बोर्ड ने अल्टरनेटिव एसेसमेंट योजना के आधार पर नतीजे घोषित किए हैं. इसके अंतर्गत पहले ही हो चुकी परीक्षाओं और आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर रद्द की गई परीक्षाओं के अंक तय किए गए हैं. Also Read - UGC Revised Academic Calendar Releases: फर्स्ट ईयर के छात्रों के लिए UGC ने जारी किया एकेडमिक कैलेंडर, यहां देखें Important Dates

इस वर्ष भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान यानी आईआईटी ने भी दाखिले के नियमों में छूट देने का फैसला किया है. तमाम बोर्डो की ओर से 12वीं कक्षा की परीक्षा को आंशिक रूप से रद्द करने के मद्देनजर ऐसा किया गया है. केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय इस बाबत छात्रों को आधिकारिक जानकारी दे चुका है. आईआईटी में दाखिले के लिए ज्वाइंट एंट्रेस एग्जामिनेशन (जेईई) एडवांस में पास होने के अलावा 12वीं बोर्ड की परीक्षा में कम से कम 75 फीसदी अंक या पात्रता परीक्षा में टॉप 20 पर्सेटाइल में स्थान बनाने की शर्त होती है. Also Read - New Education Policy 2020: शिक्षा मंत्री ने कहा- नई शिक्षा नीति राष्ट्र की प्रगति में निभाएगी भूमिका, इसकी लहर हर कोने तक पहुंचेगी

बोर्डों की ओर से 12वीं कक्षा की परीक्षा को आंशिक रूप से रद्द करने के मद्देनजर ज्वाइंट एडमिशन बोर्ड ने इस बार जेईई एडवांस 2020 के पास छात्रों के लिए दाखिला मानदंडों में छूट देने का निर्णय किया है. ऐसे पात्र उम्मीदवार जिन्होंने 12वीं कक्षा की परीक्षा पास की है, वे प्रवेश परीक्षा देने के पात्र होंगे और उन्हें 12वीं कक्षा में मिले अंकों से कोई फर्क नहीं पड़ेगा.