Bihar Board 10th Result 2020: परीक्षा में 96.20 फीसदी मार्क्स के साथ रोहतास के हिमांशु राज ने टॉप किया है। हिमांशु ने 500 में से 481 मार्क्स मार्क्स हासिल किए।। कुल 80.59 प्रतिशत स्टूडेंट्स पास हुए हैं।Also Read - Bihar Board Exam: परीक्षा हॉल में जूता-मोजा पहनने की मनाही, ठंड में चप्पल पहनने को मजबूर छात्र

बिहार स्कूल शिक्षा बोर्ड (BSEB), पटना आज बहुप्रतीक्षित कक्षा 10वीं की बोर्ड परीक्षा का रिजल्ट की घोषणा करने के लिए तैयार है. आइए यहाँ पिछले तीन सालों के टॉपर्स पर एक नज़र डालते हैं. पिछले साल के टॉपर रहे सावन राज भारती ने 97.2 प्रतिशत अंको के साथ हायर रैंक हासिल किया था. देखना यह होगा कि इस साल कोई इनका रिकॉर्ड तोड़ पाता है या नहीं. Also Read - Bihar Board Exam 2022: बिहार बोर्ड की 10वीं और 12वीं परीक्षा में बैन हुआ जूता-मोजा, जान लें ये नये नियम

बता दें कि वर्ष 2019 में बिहार के बांका जिले के एक गाँव के सावन राज ने कक्षा 10वीं की परीक्षा में 500 अंकों में से 486 अंकों के साथ टॉप किया था. मीडिया में आई खबरों के अनुसार एक किसान परिवार से ताल्लुक रखने वाले सावन ने कहा था कि वह एक IAS अधिकारी बनना चाहता है. पिछले साल सावन सहित शीर्ष 10 छात्रों में से नौ जमुई के एक आवासीय विद्यालय सिमुलतला अवसिया विद्यालय (एसएवी) के छात्र थे. यहां तक ​​कि 2019 का टॉपर एसएवी से था. इस वर्ष के लिए एक और दिलचस्प बात होगा कि क्या यह स्कूल इस साल हैट्रिक देने में सक्षम रहेगा. Also Read - Bihar Board Exam 2022: तय तारीखों पर होगी कक्षा 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षा, जानें कब होंगे प्रैक्टिकल एग्जाम

वर्ष 2018 में प्रेरणा राज ने बीएसईबी कक्षा 10वीं की परीक्षा में 457 अंक या 91.4 प्रतिशत के साथ शीर्ष रैंक हासिल की थी. यह पिछले तीन वर्षों में टॉपर द्वारा प्राप्त किए गए सबसे कम अंकों में से एक था. 2019 में 1.89 लाख छात्रों ने प्रथम श्रेणी से पास हुए थे. 225 से अधिक अंक प्राप्त करने वालों को माना जाता है कि उन्होंने बिहार बोर्ड की कक्षा 10वीं की परीक्षा में प्रथम श्रेणी पास हुए हैं. 2018 में 3.67 लाख छात्रों ने सेकेंड डिवीजन से पास किए थे. उस वर्ष पास प्रतिशत 68.89 प्रतिशत था. वहीं 2019 में पास प्रतिशत बढ़कर 80.73 प्रतिशत हो गया था. वर्ष 2017 में पास होने प्रतिशत सबसे कम रहा था, जहां केवल 51.37 प्रतिशत लोग ही परीक्षा में उत्तीर्ण हो सकें थे.

वहीं वर्ष 2017 की बात करें तो बिहार बोर्ड 10वीं की परीक्षा में प्रेम कुमार ने 465 अंकों या 93 प्रतिशत के साथ टॉप किया था. वह गोविंद सिंह हाई स्कूल से था. हालांकि इस वर्ष भी SAV ने शीर्ष 10 में 11 छात्रों को दिया था (एक संयुक्त रैंक-धारक था). उस वर्ष कुल 21 छात्र शीर्ष 10 में थे और कई छात्रों ने समान अंक प्राप्त किए थे. 8.56 लाख छात्रों में से केवल 51.37 प्रतिशत छात्रों ने परीक्षा पास किए थे.