Bihar Board BSEB Result 2018: बिहार बोर्ड 12वीं रिजल्ट का इंतजार कर रहे छात्रों के लिए अच्छी खबर है. नतीजों की घोषणा करने से पहले बिहार बोर्ड ने ग्रेस मार्क्स के लिए नियमावली तय की दी है. बिहार स्कूल एजुकेशन बोर्ड इस बार छात्रों को 10 प्रतिशत तक Grace Marks देगा. लेकिन यह नियम लैंग्वेज सब्जेक्ट जैसे कि हिन्दी और अंग्रेजी के लागू नहीं होंगे. हिन्दी और अंग्रेजी में यदि कुछ अंकों से ही छात्र फेल हो रहा है तो उसे ग्रेस मार्क्स नहीं मिल पाएंगे और वह उस विषय में फेल माना जाएगा.

बिहार बोर्ड के नये नियमों के अनुसार यदि किसी स्टूडेंट का टोटल मार्क्स 75 प्रतिशत से ज्यादा है और वह किसी एक विषय में फेल हो रही है तो उसे ग्रेस मार्क्स देकर उसे पास करा सकता है. लेकिन नियम के अनुसार बोर्ड सिर्फ 10 प्रतिशत ही अंक देगा.

बिहार बोर्ड के नये नियमों के अनुसार यदि किसी स्टूडेंट का टोटल मार्क्स 75 प्रतिशत से ज्यादा है और वह किसी एक विषय में फेल हो रही है तो उसे ग्रेस मार्क्स देकर उसे पास करा सकता है. लेकिन नियम के अनुसार बोर्ड सिर्फ 10 प्रतिशत ही अंक देगा. यदि छात्र को उस विषय में 10 प्रतिशत से ज्यादा अंकों की जरूरत है तो उसे बोर्ड पास नहीं मानेगा.

CBSE Results 2018: 28 लाख छात्रों को है रिजल्ट का इंतजार, पढ़ें रिजल्ट से जुड़ा हर Update

इससे पहले बिहार बोर्ड में अधिकतम 8 फीसदी ग्रेस मार्क्स देने का प्रावधान था. यदि दो विषयों में ग्रेस मार्क्स देना है तो 4-4 प्रतिशत दिया जाता था. लेकिन पहली बार 10 फीसदी ग्रेस मार्क्स देने का फैसला किया गया है. यह उन छात्रों के लिए लागू नहीं होगा जो पहले से किसी प्रकार का लाभ उठा रहे हैं. ग्रेस मार्क्स का लाभ एक्स स्टूडेंट्स भी नहीं उठा सकेंगे. सिर्फ रेगुलर स्टूडेंट्स ही इसका लाभ ले सकते हैं.

बता दें कि बिहार बोर्ड इंटरमीडिएट का रिजल्ट मई के आखिरी सप्ताह में जारी कर सकता है. नतीजे बिहार बोर्ड की ऑफिशियल वेबसाइट biharboard.ac.in पर घोषित किए जाएंगे. रिजल्ट जारी होने के बाद छात्र अपना स्कोर और ग्रेड ऑनलाइन चेकर कर सकते हैं.