Bihar Board BSEB 10th Result 2020: बिहार बोर्ड (BSEB) ने दसवीं की बोर्ड परीक्षा का रिजल्ट जारी कर दिया है. कई दिनों से छात्र इस दिन का बेसब्री से इंतज़ार कर रहे थे. इस परीक्षा में 12 लाख के करीब छात्र पास हुए हैं जबकि 2 लाख 89 हजार के करीब फेल हुए हैं. इस बीच ये जानना अहम हो जाता है कि पासिंग और ग्रेसिंग मार्क्स के नियम क्या और कैसे हैं. Also Read - Bihar Board 10th Result 2020: 10वीं के बाद करना चाहते हैं कोर्स, तो ये हैं बेहतरीन ऑप्शन्स

Bihar Board 10th Class Passing Marks: पास मार्क्स का नियम Also Read - Bihar Board 2020 Toppers List: इस बार टॉपर्स के हैट्रिक से चूका यह स्कूल, टॉप टेन में भी खराब रहा परफॉर्मेंस, जानें डिटेल

आपको बता दें कि बिहार बोर्ड  (Bihar School Examination Board) में पास होने के लिए स्टूडेंट्स को कम से कम 100 में से कम से कम 30 नंबर लाने जरूरी हैं और टोटल 150 नंबर लाकर ही स्टूडेंट्स दसवीं की परीक्षा पास कर आगे की क्लास में प्रमोट हो सकेंगे. इंग्लिश और ऑप्शनल सब्जेक्ट को छोड़कर सभी विषयों में पास होना जरूरी है. विद्यार्थियों को थ्योरी और प्रैक्टिकल की परीक्षाओं में भी अलग अलग पास होना होगा. दोनों को मिलाकर कम से कम 30 प्रतिशत अंक आना ज़रूरी है. Also Read - बी एस इ बी १० थ रिजल्ट २0२0 : बिहार बोर्ड 10वीं कक्षा का रिजल्ट जारी, 80.73 प्रतिशत छात्र हुए पास, रच डाला इतिहास

Bihar Board 10th Class Grace marks: ग्रेस मार्क्स का नियम

बिहार बोर्ड के इस परीक्षा में छात्रों को ग्रेसींग मार्क्स का भी सहारा मिला है. अगर कोई छात्र किसी एक विषय में 8 प्रतिशत या  उससे कम नंबर लाता है तो उसे ग्रेसिंग मार्क्स की मदद से पास कर दिया जाता है. अगर किसी छात्र ने ओवर ऑल 75 प्रतिशत अंक हासिल किए हैं और किसी एक सब्जेक्ट या विषय में 10 प्रतिशत से भी कम अंक हासिल किए हैं तो उसे पास कर दिया जाता है.

बता दें कि फर्स्ट डिवीजन के लिए स्टूडेंट्स को 300 में से 225 या उससे ज्यादा नंबर लेकर आने होंगे. 225 से कम नंबर लाने वाले स्टूडेंट्स को सेकंड डिविजन मिलेगी.