CBSE Board Pending Exam SC Decision: पिछले कई दिनों से इस बात को लेकर छात्रों के बीच संशय बना हुआ था कि सीबीएसई दसवीं और बारहवीं की बचीं हुई परीक्षाओं को आयोजित कराएगा कि नहीं. कोरोना वायरस के खतरे के चलते अभिभावक परीक्षाओं को आयोजित कराने के पक्ष में नहीं थे और उन्होंने इसके लिए सुप्रीम कोर्ट का रुख किया था. सीबीएसई की 10वीं और 12वीं बोर्ड की बचे हुए पेपर्स की परीक्षा रद्द कर दी गई है. Also Read - ICSE, ISC Results 2020: CISCE बोर्ड ने जारी किया 10वीं 12वीं का रिजल्ट, इन वेबसाइटों के साथ SMS के जरिए चेक करें स्कोर

इस मसले पर सुप्रीम कोर्ट में चली सुनवाई के दौरान भारत सरकार के सॉलिसिटर जनरल ने कहा कि एक से 15 जुलाई के बीच प्रस्तावित परीक्षा रद्द कर दी गई है. उन्होंने कहा कि दिल्ली, महाराष्ट्र और तमिलनाडु जैसे कई राज्यों ने परीक्षा आयोजित कराने में असमर्थता जताई थी. उन्होंने कहा कि फिलहाल एक से 15 जुलाई के बीच होने वाली परीक्षा रद्द की जा रही है. उन्होंने कहा कि जब स्थिति बेहतर होगी तब सीबीएसई परीक्षा करवाएगा. Also Read - JEE Mains & NEET Exams 2020: जेईई, नीट परीक्षा 2020 हुआ पोस्टपोन, जानिए अब किस दिन होगा एग्जाम 

12वी के छात्रों के लिए विकल्प दिया जाएगा कि या तो वो इंटरनल असेसमेंट के आधार पर अंक लेने के लिए राजी हो या फिर माहौल उपयुक्त होने पर होने वाली परीक्षा में शामिल हो. दिल्ली. महाराष्ट्र और तमिलनाडु ने परीक्षाओं के आयोजन में पूरी तरह से असमर्थता जताई. ICSE ने भी दसवी और बारहवीं की परीक्षाएं रद्द कीं. Also Read - CICSE 10th, 12th Exam 2020: महाराष्ट्र सरकार ICSE की लंबित परीक्षाएं आयोजित करने की नहीं दे सकती अनुमति, जानें पूरा मामला 

सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले पर केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड को 23 जून तक अपनी बात रखने का मौका दिया था. अब इस पूरे मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने अपना रुख साफ कर दिया है. अब सीबीएसई ने बची हुई परीक्षाओं को स्थगित कर दिया है और बची हुईं परीक्षाओं पर अब असेसमेंट के आधार पर नंबर दिए जाएंगे. सीबीएसई ने यह भी साफ किया कि 15 जुलाई तक रिजल्ट भी घोषित कर दिया जाएगा.

सीबीएसई ने 1जुलाई से 12 जुलाई के बीच होनी वाली 10वीं और 12वीं की सभी परीक्षाओं को स्थगित करते हुए कहा कि दें कि देश में कोरोना वायरस का संक्रमण तेजी से फैल रहा. दिल्ली, मुंबई सहित देश के कई राज्यों में हालत गंभीर बनी हुई है. इसलिए परीक्षाएं ऐसी कंडीशन में आयोजित नहीं की जा सकती. सीबीएसई के इस फैसले से हजारों छात्रों और अभिभावकों ने राहत की  सांस ली.

लगातार सीबीएएसई की बची हुई बोर्ड परीक्षाओं और दूसरी अन्य परीक्षाओं को रद्द करने के लिए मांग उठ रही थी. बोर्ड परीक्षाओं को लेकर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई थी और इसी के फैसले पर दूसरी परीक्षाओं का भी भविष्य निर्धारित था. अब माना जा रहा है कि सीबीएसई सीटीईटी और दूसरी परीक्षाओं को लेकर भी जल्द ही कोई जानकारी छात्रों को देगा.