CBSE Counselling Begins: केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) ने कक्षा 10 और 12 के बोर्ड परीक्षार्थियों और उनके अभिभावकों के लिए 23 वीं मनोवैज्ञानिक काउंसलिंग शुरू की है. यह सेवा नि:शुल्क होगी. काउंसलिंग की सुविधा रोजाना 1 फरवरी से 30 मार्च तक सुबह 8 से रात 10 बजे तक उपलब्ध रहेगी. CBSE ने सुविधा का लाभ उठाने के लिए एक टोल फ्री नंबर जारी किया है. टोल फ्री नंबर 1800 11 8004 है.

कुल 95 प्रशिक्षित काउंसलर और प्रिंसिपल छात्रों को काउंसलिंग प्रदान करेंगे जो उन्हें परीक्षा तनाव, चिंता और अन्य मुद्दों से निपटने में मदद करेंगे. भाग लेने वाले प्रिंसिपल / काउंसलर भारत और नौ अन्य देशों जैसे जापान, अमेरिका, कुवैत, सऊदी अरब के साम्राज्य, कतर, यूएई, नेपाल, सिंगापुर, ओमान की सल्तनत में उपलब्ध होंगे. CBSE ने एक ही टोल फ्री नंबर पर IVRS की सुविधा प्रदान की है, ताकि कभी भी, कहीं भी और कई बार जानकारी प्राप्त की जा सके. CBSE ने पहली बार IVRS को पिछले साल पेश किया था और फायदे को देखते हुए, इस वर्ष बोर्ड के संबंध में अद्यतन FAQ और जानकारी के साथ इस सुविधा को मजबूत किया गया है.

इसके अलावा, CBSE ने अपनी वेबसाइट पर ‘नोइंग चिल्ड्रन बेटर’के तहत एक ऑडियो-विजुअल प्रस्तुति भी शुरू की है. कोई भी इस सुविधा को आधिकारिक वेबसाइट cbse.nic.in पर देख सकता है. काउंसलिंग टैब के तहत, छात्र विभिन्न विषयों जैसे एग्रेसन, इंटरनेट एडिक्शन डिसऑर्डर, डिप्रेशन, एग्जाम एंजाइटी, स्पेसिफिक लर्निंग डिसेबिलिटी, सबस्टांस यूज़ डिसऑर्डर, लाइफ स्किल्स जैसे वीडियो देख सकते हैं. इन सामग्री को YouTube और Facebook पर भी देखा जा सकता है.

साथ ही, CBSE विशेषज्ञ फरवरी के महीने के दौरान प्रमुख राष्ट्रीय समाचार पत्रों में प्रकाशित होने वाले साप्ताहिक प्रश्न-उत्तर कॉलम के माध्यम से छात्रों के प्रश्नों का उत्तर देंगे. CBSE स्वस्थ प्रथाओं को बढ़ावा देने, महत्वपूर्ण संदेश साझा करने और छात्रों के साथ सक्रिय रूप से जुड़ने के लिए यूट्यूब, फेसबुक और इंस्टाग्राम प्लेटफार्मों का भी उपयोग करेगा. छात्रों के लाभ के लिए इन प्लेटफार्मों पर टिप्स और FAQ भी साझा किए जाएंगे.