CBSE 12th Board Exam Update: सीबीएसई की बुधवार को 12वीं कक्षा की परीक्षा में समाजशास्त्र के प्रश्न पत्र में छात्रों से उस पार्टी का नाम बताने को कहा गया जिसके कार्यकाल में ‘2002 में गुजरात में मुस्लिम विरोधी हिंसा’ (Gujarat Violence) हुई थी. CBSE ने इस प्रश्न को ‘अनुचित’ और उसके दिशानिर्देशों के खिलाफ बताया है. केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE Board Exam) ने कहा कि मामले में ‘जिम्मेदार व्यक्तियों’ के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी. सीबीएसई ने एक आधिकारिक बयान में कहा, ‘बुधवार को 12वीं कक्षा के समाजशास्त्र (Sociology Paper) की टर्म-1 परीक्षा (CBSE Term-1 Exam) में एक प्रश्न पूछा गया, जो अनुचित है और प्रश्न पत्र तैयार करने के संबंध में बाहरी विषय विशेषज्ञों के लिए सीबीएसई के दिशानिर्देशों (CBSE Guidelines) का उल्लंघन है. सीबीएसई (CBSE Update) गलती स्वीकार करता है और जिम्मेदार व्यक्तियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करेगा.’Also Read - CBSE 10th 12th Term-2 Exam: क्या तय समय पर ही होगी 10वीं, 12वीं की बोर्ड परीक्षा? यह है ताजा अपडेट

सीबीएसई ने कहा कि पेपर सेट करने वालों के लिए CBSE के दिशानिर्देश स्पष्ट रूप से कहते हैं कि उन्हें यह सुनिश्चित करना होगा कि प्रश्न केवल अकादमिक उन्मुख होने चाहिए. दिशा निर्देशों के अनुसार, वर्ग-धर्म-तटस्थ होने चाहिए तथा ऐसे विषयों को नहीं छूना चाहिए जो सामाजिक और राजनीतिक पसंद के आधार पर लोगों की भावनाओं को नुकसान पहुंचा सकते हैं. समाजशास्त्र परीक्षा में बहुविकल्पीय प्रश्न पूछा गया-2002 में गुजरात में बडे़ पैमाने पर मुस्लिम विरोधी हिंसा किस सरकार के कार्यकाल में हुई? उत्तर के लिए विकल्प थे- कांग्रेस, भाजपा, डेमोक्रेटिक और रिपब्लिकन. Also Read - CBSE term 2 Exam Sample Paper: सीबीएसई ने टर्म 2 परीक्षा के लिए जारी किया सैंपल क्वेश्चन पेपर, जानें कैसे पूछे जाएंगे प्रश्न

गुजरात में 2002 में गोधरा रेलवे स्टेशन के पास साबरमती एक्सप्रेस ट्रेन के दो डिब्बों में आगजनी के बाद राज्य में दंगे भड़क उठे थे. ट्रेन में आग की घटना में 59 हिंदू ‘कारसेवक’ मारे गए थे. दंगों में एक हजार से अधिक लोगों की जान गई थी. Also Read - CBSE 10th, 12th Result 2021: टर्म 1 परीक्षा का रिजल्ट कब होगा जारी? जानें क्या है टेंटेटिव तारीख

(इनपुट; भाषा)