नई दिल्ली: सीबीएसई की 10वीं कक्षा की परीक्षा में यहां के सनसिटी स्कूल की एक छात्रा अनुष्का पांडा ने 97.8 प्रतिशत अंकों के साथ देश में दिव्यांग श्रेणी में टॉप किया है. इस मौके पर अनुष्का ने कहा, मैं बहुत खुश हूं कि मेरे कठिन परिश्रम का इनाम मिला है. यह मेरे लिए वास्तव में एक बड़ा क्षण है. मैं नतीजे आने के पहले काफी नर्वस थी.अनुष्का रीढ़ की बीमारी, स्पाइनल मस्कुलर एट्रॉपी से ग्रस्त हैं. यह ऐसी अनुवांशिक बीमारी है, जिससे रीढ़ की हड्डी की मोटर नर्व कोशिकाएं प्रभावित होती हैं. इससे रोगी को चलने-फिरने समेत अन्य समस्याओं का सामना करना पड़ता है. व्हीलचेयर पर आश्रित होने के बावजूद 14 वर्षीय अनुष्का ने यह सफलता हासिल की. अपनी सफलता के बारे में अनुष्का ने कहा, “मैं पहले दिन से ही अपनी पढ़ाई में निरंतर लगी हुई थी. मैं अपने स्कूल को धन्यवाद देती हूं, जिसने मेरी काफी मदद की. मैं दिव्यांग हूं, इसलिए मेरे स्कूल ने यह सुनिश्चित किया कि मुझे परीक्षा में लिखने के लिए विशेष सुविधाएं दी जाएं. Also Read - Delhi Board of School Education: अगले शैक्षणिक वर्ष से दिल्ली का अपना होगा एजुकेशन बोर्ड, केजरीवाल ने इसको लेकर कही ये बात

Also Read - CBSE की 10वीं, 12वीं परीक्षा देने वाले छात्रों के लिए जरूरी खबर, इन विषयों के Exam Dates में हुआ बदलाव, जानें नई तारीख

CBSE 10th Result 2018: Top 3 में 25 छात्र, देखें पूरी सूची Also Read - CTET Result 2021 Declared: CBSE ने जारी किया CTET 2021 का रिजल्ट, ये है चेक करने का डायरेक्ट लिंक

स्कूल को अपनी छात्रा पर गर्व है

सनसिटी स्कूल की प्रधानाध्यापक रूपा चक्रवर्ती ने कहा, “हमें अनुष्का पर काफी गर्व है. उन्होंने कहा, “जिस तरह का फोकस उसके पास है, वैसा दूसरे बच्चे में दुर्लभ है. वह काफी प्रतिबद्ध है और किसी भी बाधा को अपने ऊपर हावी होने नहीं देती है और उसके मानदंड काफी ऊंचे हैं. वह हम सभी के लिए प्रेरणा है. उसने जो हासिल किया है, कई छात्र सभी संसाधनों के बावजूद वह हासिल नहीं कर पाते. वहीं अनुष्का के पिता अनूप कुमार पांडा ने कहा, मुझे मेरी बेटी पर गर्व है. बोर्ड परीक्षा में उसका बेहतरीन प्रदर्शन उसकी प्रतिबद्धता और ढृढ़ता का प्रमाण है. सेक्टर 67 में रहने वाली अनुष्का को शतरंज खेलना पसंद है और वह सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनना चाहती है.

CBSE 10th Result 2018: फ्रेंच में कट गया 1 अंक, वरना पूरे होते 500 नंबर

सरकारी स्कूलों का प्रदर्शन शानदार

गौरतलब है कि मंगलवार को आए 10वीं परीक्षा के नतीजों में सरकारी स्कूलों का प्रदर्शन प्राइवेट स्कूलों के मुकाबले बेहतर रहा. जवाहर नवोदय विद्यालय के 97.31 फीसदी बच्चे पास हुए, जो नंबर वन पर रहा. वहीं 95.96 फीसदी रिजल्ट के साथ केंद्रीय विद्यालय दूसरे पायदान पर रहा. जोन के हिसाब से देखा जाए तो तिरुवनंतपुरम का रिजल्ट सबसे अच्छा रहा. यहां 99.60 प्रतिशत छात्र पास हुए, वहीं दिल्ली के 78.62 फीसदी छात्र उत्तीर्ण हुए हैं. चेन्नई के 97.37 फीसदी और अजमेर रिजन के 91.83 फीसदी छात्र पास हुए हैं.

86.70 प्रतिशत छात्र पास

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन (CBSE) ने जो आंकड़े जारी किए हैं, उसके अनुसार 10वीं परीक्षा में कुल 86.70 प्रतिशत छात्र पास हुए हैं. पास होने वाले छात्रों में लड़कियों की संख्या ज्यादा है. लड़कों के मुकाबले इस साल भी बेहतर प्रदर्शन दिखाते हुए छात्राओं ने 88.67 प्रतिशत पास पर्सेंटेज हासिल किया है. वहीं 10वीं की परीक्षा देने वाले लड़कों का पास पर्सेंटेज 85.32 फीसदी रहा.