CBSE Board Exam 2019: केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) ने कक्षा 12वीं के अंग्रेजी कोर विषय के खंड ‘क’ के प्रश्न पत्र में कुछ बदलाव किये हैं और इस खंड में कुल प्रश्नों की संख्या को वर्तमान 40 से घटाकर 35 कर दी गई है. Also Read - CBSE Board 10th, 12th Exam 2021: CBSE बोर्ड परीक्षा की डेटशीट में देरी होने की ये हो सकती है वजह, जानें इससे संबंधित तमाम डिटेल  

Also Read - CBSE Board Exam 2021 Date Sheet: CBSE की 10वीं, 12वीं बोर्ड परीक्षा की Date Sheet को लेकर बड़ा अपडेट, इस महीने हो सकता है जारी...

बोर्ड के एक अधिकारी ने ‘भाषा’ को बताया कि विभिन्न पक्षकारों, बोर्ड की कोर्स समिति की बैठक में प्राप्त सुझावों एवं विषय विशेषज्ञों की राय के आधार पर शैक्षणिक सत्र 2018-19 के लिए 12वीं कक्षा के अंग्रेजी कोर विषय के खंड ‘क’ के प्रश्न पत्र में यह बदलाव किया गया है. Also Read - CBSE Affiliation: CBSE स्कूलों के Affiliation को लेकर कर रहा है ये बदलाव, जानिए क्या होगा नया प्रोसेस 

CBSE ने किए ये महत्वपूर्ण बदलाव:

1. अंग्रेजी कोर के खंड ‘क’ में रीडिंग श्रेणी में पैसेज राइटिंग के तहत पैसेज की संख्या को तीन से घटाकर दो किया गया है. वर्तमान में 1100 से 1200 शब्दों के दो पैसेज और 400 से 500 शब्दों के एक पैसेज होते थे. अब वर्ष 2018-19 के लिए इसे घटाकर दो कर दिया गया है, जिसमें 800-900 शब्दों के एक-एक पैसेज होंगे.

Sainik School AISSEE 2019: रजिस्ट्रेशन आज से शुरू, sainikschooladmission.in पर करें अप्लाई

2. पहले पैसेज में सभी के लिये अब एक-एक अंक के पांच बहुविकल्प प्रश्न होंगे, जबकि वर्तमान में इनकी संख्या छह है.

3. इसके अलावा 9 अति लघुत्तरीय प्रश्न होंगे, जिसमें तीन प्रश्न शब्दावली पर आधारित होंगे. इनमें से प्रत्येक प्रश्न एक-एक अंक के होंगे. वर्तमान में 16 लघुत्तरीय प्रश्न और शब्दावली पर आधारित एक प्रश्न होता है.

4. नये प्रारूप में तीन लघुत्तरीय प्रश्न होंगे जो दो-दो अंक के होंगे जबकि वर्तमान में एक लघुत्तरीय प्रश्न है.

5. दूसरे पैसेज में दो दीर्घउत्तरीय प्रकृति के प्रश्न होंगे जिनमें से प्रत्येक पांच-पांच अंक के होंगे. वर्तमान में एक दीर्घउत्तरीय प्रश्न हैं.

6. शैक्षणिक सत्र 2018-19 से खंड ‘क’ में 19 प्रश्न 30 अंक के होंगे, जबकि वर्तमान में इसके तहत 24 प्रश्न 30 अंक के हैं.

7. बोर्ड ने इस बारे में केंद्रीय विद्यालयों, नवोदय विद्यालयों, केंद्रीय तिब्बती स्कूल प्रशासन, केंद्र शासित प्रदेशों के शिक्षा निदेशालयों आदि को इस बारे में लिखा है.

(इनपुट भाषा से)

एजुकेशन और करियर की अन्य खबरों को पढ़ने के लिए करियर न्यूज पर क्लिक करें.