CBSE Compartment Exam 2020: सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने मंगलवार को केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) और विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) से कहा कि सीबीएसई कंपार्टमेंट परीक्षा (CBSE Compartment Exam 2020)लिखने वाले करीब 2 लाख छात्रों के करियर को नुकसान न हो, इसके लिए कार्य करना चाहिए. CBSE की कंपार्टमेंट परीक्षाएं 22 सितंबर से शुरू हुईं और 29 सितंबर तक जारी रहेंगी. इस बीच 2 लाख के करीब परीक्षा देने वाले कंपार्टमेंट छात्रों ने कोर्ट से अनुरोध किया था कि यह सुनिश्चित किया जाए कि रिजल्ट जल्दी घोषित किए जाएं ताकि वे इस साल कॉलेजों में दाखिला लेने से न चूकें. UGC ने मंगलवार को कोर्ट को सूचित किया कि एडमिशन बंद करने की कट ऑफ डेट को अंतिम रूप दे दिया गया है और आज घोषित किए जाने की संभावना है.Also Read - CBSE 10th and 12th Result 2022 Term 1: इस तारीख को जारी हो सकता है टर्म-1 का परिणाम, चेक करें टेंटेटिव डेट

जस्टिस एएम खानविल्कर और संजीव खन्ना की बेंच ने कहा, “2 लाख छात्रों का करियर कोई छोटी बात नहीं है. उनका करियर पूरे एक साल तक प्रभावित रहेगा. आप गुरुवार तक की कट ऑफ डेट को अंतिम रूप देने के लिए अपना फैसला सुनाते हैं. CBSE के साथ मिलकर काम करें और एक ऐसा तरीका तैयार करें जिसके द्वारा आप इस वर्ष के लिए इन छात्रों को समायोजित कर सकें.” पीठ एक अनिका सामवेदी और शिवम कुमार द्वारा दो जनहित याचिकाओं पर सुनवाई कर रही थी. इससे पहले दायर याचिका में कोविड-19 की स्थिति के कारण कम्पार्टमेंट परीक्षाओं (CBSE Compartment Exam 2020) को स्थगित करने की मांग की थी. अन्य याचिकाकर्ताओं ने केवल कोर्ट से अनुरोध किया कि इन छात्रों के करियर देर से नतीजों की घोषणा के कारण बर्बाद न हो. Also Read - Covid Vaccination: टीकाकरण को लेकर Supreme Court में सरकार का जवाब, मर्जी के बिना टीका नहीं लग सकता

CBSE के वकील रूपेश कुमार ने अदालत को सूचित किया कि इस साल कोविद-19 प्रोटोकॉल के कारण 1278 केंद्रों पर परीक्षा आयोजित की गई थी और इन केंद्रों से रिजल्ट एकत्र करने और रिजल्ट घोषित करने में लगभग एक महीने का समय लगेगा. UGC के वकील अपूर्वा कुरुप ने पीठ को बताया कि आमतौर पर दाखिले अक्टूबर अंत तक बंद हो जाते हैं और कंपार्टमेंट के छात्रों को बची हुई सीटों के लिए आवेदन करना पड़ता है. पीठ ने UGC से कहा, “यह एक अजीब स्थिति है जिसका हम इस साल सामना कर रहे हैं. आप इन छात्रों के हित में नवंबर के पहले सप्ताह तक एकोमेंडेशन बना सकते हैं.” अब इस मामले की अगली सुनवाई 24 सितंबर गुरुवार को होगी. Also Read - UP Assembly Election 2022: समाजवादी पार्टी की मान्यता रद्द करने की मांग, नाहिद हसन की उम्मीदवारी पर घिरी सपा