नई दिल्ली: बोर्ड परीक्षाओं की उत्तर पत्रिका का मूल्यांकन अध्यापक अपने घर पर ही करेंगे. 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं की उत्तर पुस्तिकाओं के मूल्यांकन हेतु सीबीएसई ने 3000 विद्यालयों का चयन किया है. इन विद्यालयों का चयन मूल्यांकन केंद्र के रूप में किया गया है. मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने शनिवार को इस विषय में एक अहम निर्णय लिया, जिसके तहत मूल्यांकन केंद्रों से उत्तर पुस्तिकाएं सीधे अध्यापकों के घर भेजी जाएंगी. Also Read - CBSE CTET Exam Admit Card 2020: इस दिन जारी हो सकता है एडमिट कार्ड, सिर्फ इतने परीक्षार्थी होंगे एक कक्ष में, ये होंगे बड़े बदलाव

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा, गृहमंत्री जी का आभार व्यक्त करते हुए आप सभी को यह सूचित कर रहा हूं कि आज विद्यार्थियों के हित में, गृह मंत्रालय के निर्देशानुसार देश के 3000 सीबीएसई स्कूलों को मूल्यांकन केंद्र के रूप में चिह्न्ति किया गया है.” उन्होंने कहा, मुझे विश्वास है कि हम 173 विषयों की 1.5 करोड़ उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन जल्द ही कर लेंगे और जैसे ही 29 विषयों की परीक्षाएं 1 से 15 जुलाई के बीच में संपन्न होंगी, उनके मूल्यांकन के बाद शीघ्र ही परिणाम घोषित कर दिए जाएंगे. छात्रों की उत्तर पुस्तिका, मूल्यांकन केंद्र से, अध्यापकों के घर भेजी जाएंगी और उन्हीं के घर में ही मूल्यांकन किया जाएगा. Also Read - CBSE Board exam Latest News: CBSE ने दिव्यांग छात्रों को दी बड़ी राहत, अब बोर्ड परीक्षाओं में नहीं होना पड़ेगा शामिल, ऐसे मिलेंगे मार्क्स

इससे पहले शुक्रवार को मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने 10वीं और 12वीं की शेष रह गई बोर्ड परीक्षाओं की तिथि घोषित कर दी है. ये परीक्षाएं एक जुलाई से 15 जुलाई के बीच ली जाएंगी. 10वीं की शेष रह गई बोर्ड परीक्षाएं केवल उत्तर पूर्वी दिल्ली के उन छात्रों के लिए करवाई जा रही हैं, जो पहले इन परीक्षाओं में शामिल नहीं हो सके थे. निशंक ने कहा था, लंबे समय से सीबीएसई की 10वीं और 12वीं की बची हुई परीक्षाओं की तिथि का इंतजार था, आज इन परीक्षाओं की तिथि एक जुलाई से 15 जुलाई के बीच में निश्चित कर दी गई है. मैं इस परीक्षा में भाग लेने वाले सभी विद्यार्थियों को अपनी शुभकामनाएं देता हूं. Also Read - सीबीएसई का साइबर सुरक्षा हैंडबुक, बदला लेने के लिए अश्लील सामग्री नहीं, तय हो ऑनलाइन दोस्ती की सीमा 

10वीं और 12वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षाओं को लेकर सीबीएसई ने अपना रुख स्पष्ट किया है. सीबीएसई के मुताबिक, 10वीं के बोर्ड की ये परीक्षाएं केवल उत्तर पूर्वी दिल्ली के छात्रों के लिए ली जाएंगी. उत्तर पूर्वी दिल्ली में 24 फरवरी के बाद उपजी हिंसा के कारण यहां 10वीं कक्षा के छात्र अपने परीक्षा केंद्रों तक नहीं पहुंच सके थे. स्थिति को देखते हुए सीबीएसई ने इन छात्रों को शेष रह गई परीक्षाओं में दोबारा शामिल होने का अवसर दिया है.