नई दिल्ली: सीबीएसई 12वीं की परीक्षा में अव्वल स्थान पर रहीं गाजियाबाद की हंसिका शुक्ला को एकमात्र अफसोस है कि उन्हें अंग्रेजी में 99 नंबर आए. हंसिका ने इतिहास, राजनीति विज्ञान और हिंदुस्तानी गायन में 100-100 अंक हासिल किए हैं. उन्होंने कहा कि परीक्षा से पहले उन्होंने ‘कोई सोशल मीडिया नहीं’ की नीति अपनायी थी. हंसिका ने कहा, ”मैं नौवें आसमान पर हूं क्योंकि मैंने ऐसे नतीजों की उम्मीद नहीं की थी. लेकिन अब मुझे लगता है कि अगर मैं एक और अंक ला पाती और अंग्रेजी में मुझे 100 अंक मिलते तो कितना अच्छा होता.” उनकी मां गाजियाबाद में एक कॉलेज में सहायक प्रोफेसर हैं और पिता राज्यसभा में सचिव हैं. हंसिका शुक्‍ला दिल्‍ली विश्‍वविद्यालय से मनोविज्ञान में ग्रेजुएशन करना चाहती है.

स्‍टडी के दौरान ब्रेक लेना महत्‍वपूर्ण था
हंसिका ने कहा कि वास्‍तव में बहुत खुश हूं कि मैंने अपने माता-पिता और अपने शिक्षकों को गर्व महसूस कराया. मैंने इस पर ध्‍यान नहीं दिया कि कितने घंटे पढ़ाई की, बल्‍कि स्‍टडी के दौरान ब्रेक लेना महत्‍वपूर्ण था. आराम करना महत्‍वपूर्ण था. हंसिका ने कहा कि वह डीयू से मनोविज्ञान में स्‍नातक करना चाहती है.

तनावमुक्त होना चाहती हूं तो संगीत सुनती हूं
डीपीएस गाजियाबाद की छात्र हंसिका ने कहा, जब भी मैं सुकून या तनावमुक्त होना चाहती हूं तो संगीत सुनती हूं, लेकिन परीक्षा से पहले मैंने कोई सोशल मीडिया नहीं की नीति अपनाई थी, क्योंकि यह बहुत बड़ा बाधक है. उन्होंने कहा, मैंने कभी ट्यूशन नहीं लिया लेकिन मैंने खुद एक अनुशासित रूटीन का पालन किया तथा स्कूल में ही अपनी शंकाओं का समाधान किया. हंसिका स्नातक के बाद भारतीय विदेश सेवा की तैयारी.

करिश्मा अरोड़ा को तनाव से मुक्ति के लिए नृत्य करना पसंद
हंसिका के बराबर अंक पाने वाली मुजफ्फरनगर की करिश्मा अरोड़ा को तनाव से मुक्ति के लिए संगीत के बजाय अपने खाली समय में नृत्य करना पसंद हैं. अरोड़ा ने कहा, मैं कोई खिलाड़ी नहीं हूं. जब मेरे पास खाली समय होता है या मैं तनावमुक्त होना चाहती हूं तो मुझे नृत्य करना पसंद है. संयोग से दोनों टॉपर अपनी स्नातक की पढ़ाई के लिए मनोविज्ञान ऑनर्स करना चाहती हैं.

करिश्‍मा अरोड़ा ने कहा कि वह छोटे लक्ष्य तय करना चाहती हैं और उन्होंने अपनी भविष्य की योजना के बारे में अभी नहीं सोचा है. सीबीएसई की 12वीं की परीक्षा के लिये बृहस्पतिवार को घोषित नतीजों में लड़कियों ने लड़कों से बाजी मारी है. ऋषिकेश की गौरांगी चावला, रायबरेली की ऐश्वर्या और जींद से भाव्या 500 में से 498 अंक हासिल कर दूसरे स्थान पर रहे. दिल्ली से नीरज जिंदल और महक तलवार उन 18 छात्रों में शामिल हैं, जिन्होंने परीक्षा में तीसरा स्थान हासिल किया.

बता दें कि डीपीएस गाजियाबाद की हंसिका शुक्ला और मुजफफरनगर के एसडी पब्लिक स्कूल की करिश्मा अरोडा ने 500 में से 499 अंक हासिल कर देश में टॉप किया है.ऋषिकेश की बेटी गौरांगी चावला ने पूरे देश में दूसरा स्थान प्राप्त कर राज्य का गौरव बढ़ाया है. ऋषिकेश के निर्मल आश्रम स्कूल की छात्रा गौरांगी ने 500 में से 498 अंक प्राप्त कर पूरे देश में दूसरा स्थान प्राप्त किया है. तीसरा स्थान हासिल करने वाले अन्य छात्रों में आयुषी उपाध्याय (लखनऊ), रूबानी चीमा (हरियाणा), वंशिका भगत (मेरठ), पार्थ सैनी (सोलन), अनन्या गोयल (मेरठ), दिशांक जिंदल (चंडीगढ़), दिव्या अग्रवाल (मेरठ), श्रेया पांडे (हल्द्वानी), गरिमा शर्मा (नोएडा), पीयूष कुमार झा (देहरादून), इबादत सिंह बख्शी (नोएडा), टिशा गुप्ता (राजस्थान) और जी. कार्तिक बालाजी (चेन्नई) शामिल हैं. गाजियाबाद की एषना जैन, अर्पित माहेश्वरी और प्रज्ञा खर्कवाल भी 500 में से 497 अंक हासिल कर तीसरे स्थान पर रहे.