नई दिल्ली: रोजगार को लेकर हाल ही में एक अच्छी खबर सामने आई है. कोयला मंत्री प्रह्लाद जोशी ने शुक्रवार को कहा कि कोल इंडिया अगले वित्त वर्ष में 75 करोड़ टन कोयला उत्पादन करेगी तथा रोजगार के करीब 10 हजार अवसरों की पेशकश करेगी. मंत्रालय ने एक बयान में जोशी के हवाले से कहा कि कोल इंडिया 2023-24 तक एक अरब टन कोयला उत्पादन का लक्ष्य प्राप्त कर लेगी. मंत्रालय ने कहा कि रोजगार को बढ़ावा देने के लिए कोल इंडिया रोजगार के 10 हजार अवसरों का भी सृजन करेगी. उन्होंने कंपनी को लक्ष्य प्राप्त करने के लिए जरूरी कदम उठाने के निर्देश दिए.

राज्य स्वास्थ्य समिति बिहार में निकली इन पदों पर वैकेंसी, जानें अप्लाई करने की अंतिम तिथि

उन्होंने कोलकाता में कंपनी के 45वें स्थापना दिवस कार्य्रकम में शुक्रवार को कहा, ‘‘आपको 2023-24 तक लक्ष्य पाने के लिए गति बढ़ानी होगी, क्योंकि मौजूदा गति पर्याप्त नहीं है. इसे 2025-26 तक पाने का कोई सवाल ही नहीं है. मैं इस दिशा में कंपनी को हर संभव समर्थन का आश्वासन देता हूं.’’ कंपनी ने पहले कहा था कि वह एक अरब टन का उत्पादन लक्ष्य 2025-26 तक प्राप्त करेगी. जोशी ने कोयला क्षेत्र में 100 प्रतिशत प्रत्यक्ष विदेशी निवेश को लेकर डर को को भी खारिज किया. उन्होंने कहा कि सरकार कोल इंडिया का निजीकरण नहीं करेगी.

प्रह्लाद जोशी ने कोल इंडिया से कहा कि वह आने वाले समय में ऊर्जा की जरूरतों की भरपाई के लिए वह जरूरी कदम उठाए. इसके अलावा उन्होंने सभी PSU से कहा कि कोयला मंत्रालय उनकी मदद के लिए पूरी तरह से तैयार है.